युवक कांग्रेस ने किया मशाल मार्च आंदोलन

किसान बिल रद्द करने की मांग को लेकर 

औरंगाबाद. केन्द्र सरकार द्वारा हाल ही में पारित किए गए किसान विरोधी विधेयक  के खिलाफ युवक कांग्रेस के औरंगाबाद ईकाई की ओर से गुरुवार को मशाल मार्च आंदोलन शहर के क्रांति चौक में किया गया. मशाल मार्च आंदोलन शहर जिला युवक कांग्रेस के अध्यक्ष मुजफ्फर खान पठाण, जिलाध्यक्ष प्रकाश ठोंबरे, प्रदेश महासचिव अकील पटेल के नेतृत्व में किया गया.

मशाल मार्च के दरमियान पत्रकारों से बातचीत करते हुए युवक कांग्रेस के शहराध्यक्ष मुजफ्फर खान पठाण ने बताया कि मोदी सरकार ने किसानों के उत्पादन, व्यापार व वाणिज्य विधेयक 2020 किसानों के विरोध में लाया है.

सरकार के इस निर्णय से बाजार समितियां बंद हुई तो किसानों को बड़े कंपनियों के निर्णय के अनुसार मुआवजा मिलेगा. जो कंपनियों के जरूरत के अनुसार कम अधिक रूप से रहेगा. जो किसानों पर अन्याय करने वाला  रहेगा. साथ ही मुआवजा कई घटकों पर निर्भर रहेगा. जिस पर किसानों का नियंत्रण नहीं रहेगा. बाजार समितियों के माध्यम से आज लाखों लोगों को रोजगार उपलब्ध हैं.

यह बंद करने पर देश भर के लाखों श्रमिक बेरोजगार होने के डर  कायम है. ठेकेदार तत्व पर खेती करने पर उसमें कुछ विवाद निर्माण हुआ तो उसका हल  दिवानी न्यायालय के कक्ष के बाहर रहेगा. इस अवसर पर युवक कांग्रेस के प्रदेश सचिव अनुराग शिंदे, प्रदेश प्रवक्ता निलेश अंबर  वाडीकर, एड. सैयद अकरम, मोहसीन खान, आमेर रफिक खान, सलमान नवाब पटेल, सैयद जुबेर, अरुण सिरसाठ, मोहित जाधव, सत्यजीत सोमवंशी, देव राजडे, योगेश बहादुरे उपस्थित थे.