औरंगाबाद का प्राणी संग्रहालय अगले आदेश तक रहेगा बंद

  • जानवरों में कोरोना संक्रमण का खतरा बरकरार
  • जू ऑथॉरिटी का आदेश

औरंगाबाद. मार्च एंड में पूरे देश में कोरोना महामारी ने पांव पसारने के बाद मनपा ने  सिद्धार्थ गार्डन(Siddharth Garden) और प्राणी संग्रहालय (Zoological museum) बंद कर दिया था. करीब 10 माह बाद महामारी का असर खत्म होने के दौरान मनपा प्रशासन ने फिर प्राणी संग्रहालय शुरु करने की तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरु की थी, लेकिन प्राणी संग्रहालय में होनेवाली भीड़ के चलते जानवरों को कोरोना संक्रमण का खतरा बरकरार होने की आशंका जू ऑथॉरिटी (Zoo Authority) ने जताने के बाद मनपा प्रशासन ने  सिध्दार्थ गार्डन में स्थित प्राणी संग्रहालय शुरु न करने का निर्णय लिया है.

मनपा के प्राणी संग्रहालय के संचालक डॉ. बीएस नाईकवाडे (Dr. BS Naikwade) ने बताया कि लॉकडाउन पूरी तरह समाप्त होने के बाद मनपा प्रशासन ने सिध्दार्थ गार्डन में स्थित प्राणी संग्रहालय फिर शुरु करने के लिए प्रयास तेज कर दिए थे. इसी दौरान केन्द्रीय प्राणी संग्रहालय ने देश भर के संचालकों की वर्चुअल बैठक (Virtual meeting) लेकर कुछ सूचनाएं की. उसमें प्राणी संग्रहालय शुरु न करने की सूचना जू ऑथॉरिटी ने की. 

 प्रशासन ने कर ली थी तैयारियां पूरी 

उस  सूचना के अनुसार, मनपा प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने जू प्राधिकरण की  मंजूरी के बाद ही प्राणी संग्रहालय शुरु करने का निर्णय लिया है. नाईकवाडे ने बताया कि 14 दिसंबर से मनपा प्रशासन ने प्राणी संग्रहालय की तैयारियां पूरी कर ली थी, परंतु जू  ऑथॉरिटी के आदेश के बाद प्राणी संग्रहालय नहीं खोला जाएगा. जू ऑथॉरिटी के अधिकारियों ने बताया कि जानवरों के करीब इन्सान पहुंचने पर उन्हें कोरोना महामारी का खतरा अधिक है. जिसके चलते अगले आदेश तक प्राणी संग्रहालय बंद ही रखें. 

सभी ऐतिहासिक स्थलों को खोल दिया गया

गौरतलब है कि मराठवाडा का सबसे बड़ा एक मात्र प्राणी संग्रहालय औरंगाबाद में है. यह प्राणी संग्रहालय मराठवाडा के साथ-साथ विदर्भ और खानदेश के पर्यटकों के लिए आकर्षण केन्द्र बना हुआ है. औरंगाबाद पर्यटन की  राजधानी होने के चलते यहां हर साल हजारों देशी और विदेशी पर्यटक सैर के लिए आते है. औरंगाबाद की सैर  के लिए आनेवाले पर्यटक प्राणी संग्रहालय पहुंचते है. इन दिनों शहर के सभी ऐतिहासिक स्थलों को खोल दिया गया है. जिससे शहर में पर्यटकों का तांता लगा हुआ है.