House Damage, Flood

भंडारा. समीपस्थ बेरोडी 450 आबादीवाला गांव वैनगंगा नदी किनारे पर स्थित है. इस गांव में कई बार नदी के भयंकर बाढ़ का पानी तथा गोसीखुर्द परियोजना का पुनर्वास पीड़ित क्षेत्र में आने से इस गांव के 126 परिवारों को प्लाट मिला, किंतु 122 लोगों को अभी तक प्लाट नहीं मिला है. अतिवृष्टि व भयंकर बाढ़ में 12 मकानों को क्षति पहुंची है. जिसके चलते परिवार बेघर हुए है. लोगों को शीघ्र मुआवजा देने व शेष परिवारों का पुनर्वास करने की मांग बेरोडी के सरपंच मनीषा निंबार्ते एवं उपसरपंच वसंता शहारे ने की है.

सुरेवाडा पुनर्वास के पास स्थित बेरोडी गांव कई बार बाढ़ की चपेट में आया है. इस वर्ष भी अगस्त में आई अतिवृष्टि व भयंकर बाढ़ से 12 मकान ढह गए. बेरोडी गांव वर्ष 2011 में पुनर्वास के रूप में घोषित किया गया. इसमें बेरोडी के 126 लोगों को प्लाट मिले. 122 लोगों को प्लाट मिले ही नहीं. गांव का 78 प्रश क्षेत्र पीड़ित दिखाया गया है. 22 प्रश क्षेत्र जैसे थे रखा गया है.

इस वर्ष के बाढ़ में बेरोडी का 22 प्रश क्षेत्र बाढग्रस्त हुआ था. जिससे कवेलू मिट्टी को मकान क्षतिग्रस्त हुए. इसके अलावा अतिवृष्टि होने से 12 मकान गिर गए. सरकार प्रशासन ने इसकी दखल लेते हुए शेष 22 प्रश गांव का पुनर्वास करना चाहिए. अन्यथा बेरोडी पुनर्वास किए गए करचखेडा के खाली 103 प्लाट पर अतिक्रमण किया जाएगा ऐसी चेतावनी सरपंच मनिषा निंबार्ते एवं उपसरपंच वसंता शहारे के साथ ग्रामवासियों ने दी है.