वन में लापता हुए 2 लोग मिले

  • पुलिस व वनविभाग की खोज हुई सफल

लाखांदूर. तहसील के चिचोली गांव के 2 व्यक्ती रोजमर्रा की तरह दोपहर 1 बजे के बीच वन में बकरियां चराई के लिए गए थे. लेकिन शाम के 6 बजे के बाद भी 50 बकरियां एवं वह 2 लोग गांव में वापस नहीं लौटे. पुलिस एवं वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मियों ने दोनों को जंगल में खोज निकाला.

सूत्रों के अनुसार चिचोली निवासी दामोधर कुरूडकर (55), बलभीम जंगम (60) दोनों वन में बकरियां चराने के लिए गए थे. इस घटना की जानकारी गांव में मिलते ही उनके परिवार ने सभी तरफ खोज की. जिस वन में बकरियां चराई के लिए गए थे उसी स्थान पर ग्रामवासियों की मदद से खोज ली गई. लेकिन उनका कोई पता नहीं चलने से अंतत: पुलिस प्रशासन एवं वनविभाग को इसकी जानकारी दी गई. इस अनुसार पुलिस निरीक्षक शिवा कदम ने तुरंत अपनी टीम के साथ रात्री 10 बजे के बीच गांव पहुंचे. उनके परिवार के लोगों को वाहन में बिठाकर वन परिसर में खोज शुरू की गई. इसमें दांडेगाव, दहेगाव, जीरोबा, लाखांदूर तक खोज किया गया. लेकिन कोई पता नहीं चला. 

दोनों को सही सलामत घर पहुंचाया

मध्यरात्रि 12 बजे के दौरान वन के नहर किनारे पर बकरियों की आवाज आने पर वनविभाग का वाहन रूक गया. एवं आवाज देने पर उनकी ओर से भी जवाब मिलने से खोज करने पर उस जगह बकरियां एवं दामोधर कुरूडकर नामक व्यक्ति दिखाई दिया. और एक व्यक्ती पहले ही गांव पहुंचा था. दोनों को एवं बकरियों को सहीसलामत गांव में लाया गया.

 इस मुहिम के लिए पुलिस निरीक्षक शिवा कदम, उपनिरीक्षक प्रमोद कुरसुंगे, पुलीस नायक कोसरे, मडावी, वनविभाग के अधिकारी कर्मचारी, पुलिस पाटिल मोहन निमजे, युवक कांग्रेस शहर अध्यक्ष जितेंद्र सुखदेवे, प्रमोद प्रधान, पवन समरत, विद्वान नैताम, हरीचंद्र समरत, बक्षी दिघोरे, देवेंद्र बोकडे, शुभम बगमारे, हीरालाल रहेले, उमेश सोनटक्के, सुनील निमजे, मधुकर नैताम के साथ गाव के नागरिक एवं युवाओं ने प्रयास किया.