farmer
File Photo

  • मुंगसमारे ने की शीघ्र उपलब्ध कराने की मांग

तुमसर. क्षेत्र में सरकारी समर्थन मूल्य पर धान खरीदी करने के लिए केंद्र तो शुरू किए गए है, लेकिन डिजिटल 7/12 की स्थिति लागू होने के कारण किसानों को केंद्र पर धान बेचने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इसके चलते कई किसानों को  व्यापारियों को धान बेचना पड़ा था. इससे उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है. तहसील रायुकां अध्यक्ष ठाकचंद मुंगसुमारे ने किसानों का शोषण रोकने तत्काल डिजिटल 7/12 उपलब्ध कराने की मांग की गई है.

पटवारी कार्यों को काट रहे चक्कर

वर्तमान में डिजिटल 7/12 के अभाव में किसानों को धान बेचने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.  इस कारण क्षेत्र में अनेक धान खरीद केंद्र शुरू किए गए है. आज तक एक भी किलो धान की खरीदी नहीं की गई है.  किसानों द्वारा पहले की तरह 7/12 लेकर धान खरीदी केंद्र पर धान लेकर पहुंचे थे तो उन्हें वापस लौटाया गया था. केंद्र पर ऑनलाइन डिजिटल 7/12 की मांग की गई थी. दूसरी ओर तहसील कार्यालय में अनेक किसानों के 7/12 को अपडेट नहीं किया गया है. पटवारियों द्वारा 7/12 के रिकॉर्ड को अपडेट नहीं किए जाने के कारण किसानों को धान खरीदी केंद्र व  पटवारी कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ रहे है.

बारिश ने बढ़ाई समस्या

किसानों की ओर से 20 से 25 दिनों पूर्व ही धान की गहानी की गई है. ऐसे में बेमौसम बारिश के कारण अब धान को सुरक्षित रखने की समस्या पैदा हो गई है. वैसे ही केंद्रों पर भी धान रखने के लिए पर्याप्त जगह उपलब्ध नहीं होने से किसान परेशान हो चुके हैं. कई पटवारी कार्यालयों के कम्प्यूटर सेट खराब है, जिसके कारण किसानों को प्रमाणपत्र के लिए कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता है.  ऑनलाइन सिस्टम होने के बावजूद 7/12 प्राप्त करने के लिए समय लग रहा है. रायुकां के तहसील अध्यक्ष मुंगसुमारे ने इस प्रणाली को विकसित कर किसानों को लाभान्वित करने की मांग की गई है.