कर्ज वितरण का लक्ष्य पूरा करें, बैंक समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने दिए निर्देश

    भंडारा. खरीफ सीजन शुरू हो गया है और इस साल अच्छी बारिश होने की उम्मीद है. जिला जिलाधिकारी संदीप कदम ने कहा कि इस स्थिति में किसानों को फसल कर्ज की आवश्यकता होती है. बैंकों को समय पर फसल कर्ज आवंटित करने के उद्देश्य को पूरा करना चाहिए. जिलाधिकारी बैंक अधिकारियों की जिला स्तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे. 

    इस अवसर पर अग्रणी बैंक व्यवस्थापक अशोक कुंभलवार, जिला उपनिबंधक मनोज देशकर, नाबार्ड व्यवस्थापक संदीप देवगिरकर, संचालक आरसेटी सुजीत बोदेले और बैंक प्रतिनिधि उपस्थित थे. बैठक में बैंक की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की गई. 

    वर्ष 2020-21 में खरीफ और रबी फसल कर्ज वितरण लक्ष्य 455 करोड़ 45 लाख रुपये था.  बैंकों ने 1 लाख 25 हजार 440 खाताधारकों को 500 करोड़ रुपये का फसल कर्ज वितरित किया.  कर्ज वितरण 110 प्रतिशत है. इसमें सबसे शानदार काम बीडीसीसी बैंक का रहा है. बीडीसीसी बैंक ने 76,770 सदस्यों को 323.62 करोड़ रुपये का फसल कर्ज वितरित किया. कर्ज वितरण प्रतिशत 119 प्रतिशत है. 

    वर्ष 2021-22 में खरीफ और रबी के लिए 500 करोड़ फसल कर्ज आवंटित करने का लक्ष्य हासिल कर लिया गया है. बैंकों ने 22 जून तक 63,183 सदस्यों को 337 करोड़ रुपये के कर्ज वितरित किए हैं. यह प्रतिशत 68 प्रतिशत है. बीडीसीसी बैंक सबसे बड़ा योगदानकर्ता है, जिसमें बीडीसीसी बैंक ने 58,000 सदस्यों को 296 करोड़ रुपये का कर्ज वितरित करता है. कर्ज वितरण  प्रतिशत 98 प्रतिशत है. 

    समय पर लक्ष्य प्राप्त करें 

    जिलाधिकारी ने बैंकों को दिए गए लक्ष्य को समय पर पूरा करने का निर्देश दिया, क्योंकि फसल कर्ज वितरण में राष्ट्रीयकृत और निजी बैंकों का प्रदर्शन कम है. उन्होंने अफसोस जताया कि कुछ बैंकों का कर्ज वितरण प्रतिशत बहुत कम था और उन्होंने बैंकों को अपने प्रदर्शन में सुधार करने की चेतावनी दी. 

    बैठक में जिले के कर्ज-जमा (सीडी) अनुपात पर चर्चा की गई. मार्च-2021 तक सभी बैंकों का सीडी रेशो 36.33 फीसदी है. जिलाधिकारी ने कहा कि सीडी अनुपात 40 प्रतिशत से ऊपर रहना चाहिए, बैंकों को सीडी अनुपात बढ़ाने के प्रयास करने चाहिए. उन्होंने कहा कि अगली तिमाही में अनुपात में वृद्धि होनी चाहिए.