Drain Construction, Nali

  • सव्वालाखे ने की कार्यवाही की मांग

तुमसर. तहसील की देव्हाड़ी में एक पुराने नाली पर लगभग 19 लाख रुपये की लागत से नए नाले का निर्माण कार्य चल रहा है. यहां पुराने नाले को समतल करने की अनुमति नहीं मांगी गई थी. यहां ग्रापं के माध्यम से सामग्री की आपूर्ति कर निर्माण कार्य किया जा रहा है. यहां ग्रापं द्वारा टेंडर प्रक्रिया को अचानक रद्द कर दिया गया था.

देव्हाड़ी के गांधी वार्ड में 20 वर्ष पुरानी नाली थी उसे समतल किए बगैर उसी पर ही 19 लाख रुपए का नाला बनाया जा रहा है. ग्रापं द्वारा 4 माह पूर्व काम के लिए ऑनलाइन निविदाएं आमंत्रित की गई थी. इसके बाद  विज्ञापन भी प्रकाशित किया गया था एवं ग्रापं की एक आपात बैठक बुलाई गई थी. इसमें निविदा रद्द करने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया गया था.

गुणवत्ता पर सवाल

इसके बाद नाली का एक हिस्सा बिल्डरों ने तोड़ दिया था एवं दूसरी तरफ की नाली बरकरार रखी गई थी. वर्तमान में पुरानी नाली को पकड़कर ही नाले का निर्माण चल रहा है.

सबंधित ठेकेदार द्वारा नाली के बहते पानी में सूखा सीमेंट, गिट्टी एवं अन्य सामग्री डाली जा रही है, इस कारण नाली के निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर सवाल उठाया जा रहा है. नाले का तकनीकी रूप से दोषपूर्ण काम चल रहा है. देवसिंह सव्वालाखे ने आरोप लगाया है कि यहां ठेकेदार के हितों की रक्षा यहां की जा रही है एवं अपने मनमर्जी के व्यक्ति को यहां काम दिया गया है. ग्रापं द्वारा नाली के निर्माण कार्य की ओर अनदेखी की जा रही है.

देव्हाड़ी में नाली का निर्माण कार्य शुरू करने के पूर्व  अनुमति की आवश्यकता थी. वैसा नही करने से ग्रामीणों में रोष का वातावरण निर्माण हुआ है. पूर्व जिप सदस्य सव्वालाखे ने कहा कि पुराने नाले पर 19 लाख का नाला बनाया जा रहा है.  पुराने नाले को समतल नहीं किया गया है. ग्रापं द्वारा किए जा रहे कार्य की ओर पस प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है. उनके माध्यम से जिलाधिकारी एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी को शिकायत की गई है.