खतरा : बिजली विभाग कर रही उपेक्षा, कई तारें झाड़ियों के चंगुल में, ओपन ट्रांसफॉर्मर से लोगों की जान खतरे में

    पालांदूर . पालांदूर क्षेत्र के कई गांवों में बिजली की लाइनें, खंभे और ट्रांसफार्मर अव्यवस्था में हैं. खंभे जो सार्वजनिक स्थानों पर होते थे, अब नागरिकों के घरों के पास पहुंच गए हैं. इसलिए लटकते लाइट तारों से खतरे की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है. इसके अलावा पुराने खंभे और ओपन ट्रांसफार्मर ने हर जगह नागरिकों के बीच बिजली के झटके का डर पैदा किया है. खंबे ट्रांसफार्मर झाड़ियों से गिरे हुए हैं. कहीं जगह तो बिजली की तारे झाड़ियों से ही गुजरती हुई दिखाई दे रही है. किसानों के खेतों को पहुंचने वाली बिजली के ट्रांसफार्मर और डीपी झाड़ियों से गिरी हुई ही दिखाई देते हैं.

    ध्यान नहीं दे रहे बिजली अधिकारी

    बिजली वितरण कंपनी के अधिकारी, लाइनमैन, वायरमैन, लाइन हेल्पर और कर्मचारियों से ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली वितरित करने वाले ट्रांसफार्मर, डीपी ऐसी स्थिति में है. जहां तारों की मरम्मत को बहुत गंभीरता से नहीं लिया जाता है. यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाना चाहिए कि बिजली की आपूर्ति बाधित न हो और दुर्घटनाएं न हों, लेकिन बिजली वितरण कंपनी द्वारा इसकी अनदेखी की जा रही है.

    पुराने और घिसे हुए खंभों को बदलने की आवश्यक है जो कई वर्षों से सेवा में है, उनकी जगह नए खंबे लगाने की जरूरत है. लेकिन बिजली वितरण कंपनी इस मुद्दे को गंभीरता से नहीं ले रही है. बिजली बिल का भुगतान नहीं किया गया तो लाइट कट करने की जितनी तत्परता दिखाई उतनी बिजली वितरण कर्मचारियों ने सुविधा प्रदान करने के लिए तत्परता नहीं दिखाई देती है. 

    बिजली के तारों के नीचे ट्रांसफार्मर के नजदीक डीपी के नजदीक झाड़ियों को बिजली वितरण कंपनी द्वारा काटने की मांग लोगों द्वारा की जा रही है. ग्रामीण क्षेत्रों में डी पी कई साल पहले स्थापित किया गये थे. डी पी की आज बहुत दयनीय स्थिति में है. डी पी गंज खा चुकी है और दरवाजे नहीं हैं. बॉक्स में कई जगह छेद हैं. तारों का जलना और बिजली की निकासी आम है.