Government Godown, Sihora

सिहोरा. तुमसर तहसील के किसानों ने हलके धान की कटाई शुरू कर दी है और सरकारी धान केंद्र शुरू कराने का प्रयास शुरू है. सिहोरा दि. सहकारी राइस मिल के साथ इस क्षेत्र के धान गोदाम भरे हुए हैं. जिससे नए धान खरीदी में समस्या निर्माण हो सकती है.

पिछले साल में सिहोरा क्षेत्र में धान की फसल ज्यादा मात्रा में होने से गांव-गांव में ग्राम पंचायत के हक में होने वाले सभा मंडप धान गोदाम उपलब्ध कराए गए, लेकिन सभा मंडप का नुकसान केंद्र संचालक को हो रहा है.

नदी किनारे के गांव में बाढ़ का पानी घुसने से यहां रखे धान के बोरे गीले होने से काफी नुकसान हुआ. ये नुकसान टालने के लिए धान के बोरे यहां ले जाये गए, लेकिन सुरक्षित जगह वाले गोडाउन अभी तक भरे के भरे हुए हैं.

हलके धान की फसल काटने को शुरूआत हो चुकी है और आने वाली दिवाली के नजदीक होने से किसानों ने इसे बेचना भी शुरू कर दिया है. इस वजह से शासन स्तर पर धान खरीदी केंद्र को मंजूरी देने का काम तेजी से किया जा रहा है, लेकिन सिहोरा स्थित दि.

सहकारी राइस मिल के गोडाउन में 13,500 हजार क्विंटल धान के बोरे भरे हुए हैं. जिसको अभी तक उठाया नहीं गया है. इसके साथ-साथ गोंदेखारी स्थित गोडाउन में 25 हजार बोरे भरे हुए हैं. जिसको अभी तक उठाने का प्रयास भी नहीं किया गया.

धान खरीदी केंद्र को मंजूरी मिलने के पहले ही गोदाम खाली कराने के लिए राइस मिल के उपाध्यक्ष सुभाष बोरकर और विनोद पटले ने पत्रव्यवहार शुरू किये जाने की बात कही है.

खरीफ प्रक्रिया बार-बार बंद करने में आने से यहां के किसानों में रोष दिखाई देता है. जिसका खामियाजा संचालकों को भुगतना पड़ता है. यहां जिला मार्केटिंग विभाग के अधिकारियों की टालमटोल से यहां किसान बहुत परेशान हैं.