Silence in the streets and markets during the first weekend lockdown in Maharashtra
File Photo

  • प्रशासन के निर्देशों का बाजार परिसर में हो रहा पालन

तुमसर (सं). कोरोना वायरस संक्रमण की कड़ी को रोकने के लिए गत एक माह से नप प्रशासन के आदेश पर शहर की सड़कों पर सुबह 12 बजे के बाद वीरानी छायी रहती है. बाजार परिसर पूर्णतः बंद हो जाता है. केवल अस्पताल एवं दवाइयों के दूकानों को छोड़ सभी प्रतिष्ठान बंद किए जाते हैं. इस बीच किसी की दूकान शुरू दिखाई देती है तो नप कर्मियों द्वारा संबंधितों से जुर्माना वसूल किया जाता है. दूसरी ओर सरकारी कार्यालय एवं बैंकों के कामकाज सावधानी पूर्वक किए जा रहे हैं. लेकिन समयावधि कम होने से प्रत्येक बैंकों के सामने ग्राहकों की भीड़ दिखाई देती है.

व्यापारियों के साथ सख्ती न हो

कोरोना वैश्विक महामारी की दूसरी लहर को रोकने के लिए क्षेत्र के नागरिकों ने स्थानीय प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से पालन किया गया है. इसमें बाजार परिसर, शहर की प्रमुख सड़क के साथ ही मोहल्ले की सड़कें पूर्णतः वीरान दिखाई दे रही थी. वर्तमान में कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी कम हो चुकी है. इस कारण प्रशासन द्वारा व्यापारियों के साथ सख्ती से पेश नहीं आना चाहिए. लॉकडाउन के कारण उनकी आर्थिक स्थिती पूर्णता गम्भीर हो चुकी है. ऐसे में यदि प्रशासन द्वारा उनसे जुर्माना वसूला जाता है तो वे अपने परिवार का पालन पोषण कैसे करेंगे यह सवाल खड़ा होता है.

जिला प्रशासन के आदेश पर स्थानीय प्रशासन द्वारा शहर में कोरोना के प्रसार को रोकने एवं संचार क्षेत्र को रोकने के लिए कम्यूनिटी स्प्रेड के प्रसार को रोकने के लिए गत एक माह पूर्व पूर्णता व्यापार बंद रखने का निर्णय लिया गया था वह काफी सराहनीय था. लेकिन वर्तमान स्थिती को मद्देनजर रख लॉकडाउन में ढिलाई बरतने की आवश्यकता है.