Mahavitaran gave 71 thousand connections in Vidarbha in lockdown

पालांदूर. वर्तमान में क्षेत्र में गेहूं, चना, मक्का और अन्य फसलों की रबी की खेती बड़े पैमाने पर हो रही है. पानी नहीं मिलने से फसल सूखने की स्थिति में है. बिजली विभाग की ओर से नियमित बिजली की आपूर्ति नहीं करने से किसानों को सिंचाई की समस्या निर्माण हो रही है. अनियमित व मध्यरात्रि में बिजली आपूर्ति के कारण फसल सूख गई है. मध्यरात्रि 11.30 बजे महावितरण से बिजली की आपूर्ति की जा रही है. इसलिए किसानों को सांप, बिच्छू व जंगली जानवरों के खतरे को सहन करते हुए रात में रबी फसलों को पानी की आपूर्ति करनी पड़ रही है.

रबी फसल पर संकट

इस भीषण ठंड में किसान पूरी रात पानी में रहकर अपनी जान जोखिम में डालकर पानी की आपूर्ति कर रहे हैं. मध्यरात्रि फेज जाना और अनियमित आपूर्ति के कारण किसानों को इसे रात में ठीक करना पड़ता है. बिजली का झटका लगने से कोई बड़ा हादसा हो सकता है. सप्ताह में 3-4 दिन बिजली की आपूर्ति दिन-रात की जाती है. नतीजतन बिजली की आपूर्ति रबी की खेती पर एक बड़ा प्रभाव डाल रही है. सवाल यह है कि क्या महावितरण एक बड़ी दुर्घटना का इंतजार कर रहा है. 

करना पड़ रहा रतजगा

किसानों का कहना है कि कभी उच्च दबाव पर और कभी कम दबाव में बिजली आपूर्ति के कारण जेवनाला क्षेत्र के कई किसानों के ऑटो स्टार्टर क्षतिग्रस्त हो गए है. इससे किसानों को आर्थिक नुकसान हो गया है.

समस्या का करें समाधान : गिरेपुंजे

जेवनाला के किसान खेमराज गिरेपुंजे ने बताया कि कड़ाके की ठंड में जंगली जानवरों का सामना करते हुए रात में खेतों में जाना पड़ता है. जबकि अनियमित बिजली की आपूर्ति होने पर पानी की आपूर्ति करनी पड़ती है. समस्या को जनप्रतिनिधि व महावितरण ने ध्यान देकर हल करना चाहिए.