धूमधाम से मनाई दीपावली

  • घर-घर बने मिष्ठान, आतिशबाजी का नजारा

भंडारा. रोशनी और खुशियों का पर्व दीपावली शनिवार को उत्साह के साथ मनाया गया. शुभ मुहूर्त में घरों, मंदिरों और प्रतिष्ठानों में विघ्न विनाशक भगवान गणेश, माता लक्ष्मी और कुबेर की विधि-विधान से पूजा की गई. घर-घर दीए जलाए और मिष्ठान वितरित किया. छोटे-बड़ों ने मिलकर आतिशबाजी का मजा लिया. प्रकाश पर्व दीपावली को लेकर लोग कई दिन से तैयारी कर रहे थे.

शनिवार सुबह से लोगों में उत्साह नजर आ रहा था. सुबह घरों की साफ-सफाई के बाद लोगों ने बाजार का रुख किया. किसी ने पूजन का सामान खरीदा, तो किसी ने लक्ष्मी-गणेशजी की मूर्तियां. साथ में लाई-मिठाई, फूल, दीए की भी खरीदारी की. घरों में महिलाओं ने सुबह पकोड़े, मीठी रोटी, खिचड़ी आदि पकवान बनाए.

शाम को घर के बड़े-बुजुर्गों ने घरों और प्रतिष्ठानों में मुहूर्त के अनुसार पूजा की. घरों, प्रतिष्ठानों के अलावा मंदिरों में सुबह फूल की लड़ियां, जबकि शाम को विद्युत झालरों से सजावट की गई. घरों-प्रतिष्ठानों में भी रंगोली बनाने के साथ दीप जलाए गए. इसके साथ ही परिचितों से मिलकर व इंटरनेट मीडिया के माध्यम से एक-दूजे को बधाई देते नजर आए.

शहर में आतिशबाजी का पहले जैसा आकर्षण देखने को नहीं मिला. प्रशासन द्वारा लगाई गई पाबंदी, कोरोना और प्रदूषण के कारण लोगों ने आतिशबाजी से काफी परहेज किया. लोगों ने परम्परागत तरीकों से मिट्टी के दीए जलाकर दीपावली मनाई. पाबंदियों के बाद भी जोरदार आवाज करने वाले पटाखे फोड़े गए. बाजारों में देर शाम तक लोगों की चहल-पहल देखने को मिली. 

बच्चों में काफी उत्साह

पर्व के मद्देनजर जितना उत्साह युवा और महिला वर्ग में रहा, उससे कई गुना उत्साह बच्चों में देखने को मिल रहा था. अपने अभिभावकों के साथ बच्चे पटाखों की दूकानों में अधिक नजर आए. शाम होते ही बच्चे पटाखे और फूलझड़ियां जलाकर दिवाली की खुशियां मनाते देखे गए. दीपावली के दिन जहां बच्चों ने ढेर सारे पटाखे और फूलझड़ियां जलाकर खुशियां बांटी.