बिजली उपभोक्ताओं का आर्थिक शोषण, पूर्व विधायक वाघमारे ने साधा निशाना

भंडारा. कोरोना महामारी के दौरान राज्य के बिजली ग्राहकों को बिजली बिल में सहूलियत दी जाएगी, ऐसी घोषणा करने के बाद ग्राहकों को बिजली बिल का भुगतान करने में मजबूर करनेवाली गठबंधन सरकार के खिलाफ विकास फाउडेशन भंडारा संस्थापक अध्यक्ष तथा भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य पूर्व विधायक चरण वाघमारे ने सार्वजनिक रूप से निषेध किया.

राज्य सरकार का निषेध

भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में कोरोना महामारी के संकट में हर तरफ तालाबंदी रहने से बिजली बिल में 50 प्रश या 100 यूनिट तक सहूलियत दिया जाएगा. सभी को तालाबंदी का सख्ती से पालन करना चाहिए,ऐसे निर्देश महाराष्ट्र सरकार द्वारा दिए गए थे. परिणामस्वरूप किसान, खेत मजदूर, व्यापारी, कारखाने के मजदूर व छोटे व्यवसाय के मालिक सभी ने सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए घर पर रहने का विकल्प चूना. लॉकडाउन की अवधि व ग्रीष्मकाल की शुरुआत के बाद से हर कोई घर पर रहने से अधिक बिजली का उपयोग हुआ.

विधानसभा अध्यक्ष कांग्रेस नेता नाना पटोले ने बिजली मंत्री नितिन राउत व राज्य सरकार को बिजली उपभोक्ताओं को बिजली के बिलों में रियायत देने के निर्देश दिए. बावजूद एक को दूसरे को श्रेय नहीं मिलना चाहिए इस चक्कर में विधानसभा अध्यक्ष के निर्देशों का पालन नहीं किया जा सका. विकास फाउंडेशन भंडारा के संस्थापक अध्यक्ष भाजपा पार्टी के राज्य कार्यकारी सदस्य पूर्व विधायक चरण वाघमारे ने राज्य सरकार के खिलाफ निषेध किया है.