Encroachment
File Photo

लाखनी (सं). स्थानीय तहसील कार्यालय परिसर में विविध कार्यालय, अस्पताल, शाला, महावद्यिालय है, जिससे छात्र, अभिभावक, नागरिक छोटे बडे कामों के लिए अस्पताल, तहसील कार्यालय एवं विविध कार्यालय में आते है. यहां प्रतिदिन 2 से ढ़ाई हजार नागरिक आवागमन करते है. फिलहाल शाला बंद होने के बावजूद भी परिसर में अनेक लोगों ने अतिक्रमण कर अपना व्यवसाय कर रहे हैं.

चाय, पानटपरी, होटल व सरकारी कामों के लिए लगनेवाली कागजात की पूर्तता करनेवाले अर्जनवीस का समावेश है, जिससे इस परिसर में बड़े पैमाने पर भीड़ दिखाई देने से कोरोना फैल सकता है, यह ध्यान में आने से लाखनी के तहसील मलिक विराणी ने ग्रापं मुरमाडी के सहयोग से व पुलिस विभाग की मदद से अतिक्रमण हटाया है.

अतिक्रमण मुहिम में तहसीलदार मलिक विराणी, नायब तहसीलदार पी.सी. दोनोडे, लाखनी के थानेदार दामदेव मंडलवार, पुलिस उपनिरीक्षक रवींद्र म्हैसकर, पटवारी जे.एच. गेडाम, ग्रामसेवक प्रमोद तिडके, कनिष्ठ लिपीक एन.डी. पटले, पुलिस कर्मचारी, ग्रापं कर्मचारी उपस्थित थे. यह अतिक्रमण पुन: नहीं हो ऐसी अपेक्षा नागरिकों की ओर से की जा रही है.