File Photo
File Photo

  • स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर की मांग

भंडारा (का). जिले में बाढ़ के कारण जिन परिवारों को नुकसान पहुंचा है, उन सभी परिवारों को आर्थिक मदद दी जाए, ऐसी अपील स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भेजे गए ज्ञापन के माध्यम से की है.

शेतकरी संगठन ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भेजे गए ज्ञापन में कहा है कि जिले में विगत 29 तथा 30 अगस्त को आई बाढ़ के कारण बहुत से किसानों के खेत में पानी घुस जाने की वजह से भारी नुकसान सहन करना पड़ा है, बाढ़ का पानी घरों में घुस जाने से जीवनावश्यक वस्तुओं भी खराब हो गई. इतना ही नहीं चार लोगों की पानी में डूबने की वजह से मौत भी हुई.

बाढ़ के पानी अपने सात अनेक पशुओं को बहा ले गया. बाढ़ का पानी उतरने के 20 दिनों के बाद भी नुकसानग्रस्तों को राहत न मिलने में उनमें आक्रोश व्याप्त है. नुकसानग्रस्तों सरकार की ओर आर्थिक तथा जीवनावश्यक वस्तुओं की मदद नहीं दी गई है. इस वर्ष जिला प्रशासन ने बाढ़ के बारे में पूर्व सूचना न देने के कारण नदी तट के बहुत से किसानों की खेती नष्ट हो गई. कुछ परिवारों को बेघर होना पड़ा है.

सरकार की ओर से नुकसानग्रस्त परिवारों को मदद के रूप में जीवनावश्यक वस्तुएं तथा 50 हजार रूपए दिए जाए, जिनका घर बह गए हैं, उन्हें घरकुल देने की मांग भी ज्ञापन में की गई है. स्वाभिमान संगठन के राकेश चोपकर के नेतृत्व में प्रतिनिधित्व ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा.