बाढ़ ने बढ़ाई किसानों की समस्याएं

भंडारा (का). किसानों के जीवन में समस्याएं होना आम बात हो गई है. अन्नदाता को हर मौसम में किसी न किसी तरह की परेशानी से जूझना ही पड़ता है. कभी बहुत ज्यादा वर्षा, कभी सूखा, कभी अनाज भंडारण को लेकर किसान परेशान होते रहते हैं. अगस्त माह में आई बाढ़ ने किसानों की हालत को और ज्यादा खराब कर दिया है.

वैनगंगा नदी में आई बाढ़ के कारण 144 गांवों को नुकसान उठाना पड़ा है. बाढ़ के कारण 43, 234 लोगों के प्रभावित होने की जानकारी मिली है. 4736 परिवार रास्ते पर आ गए. बाढ़ की वजह से 673 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए तो 4062 घरों आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा. बाढ़ में 320 पालतु पशु बह गए. बाढ़ से सबसे ज्यादा नुकसान भंडारा तहसील क्षेत्र में हुआ है.

वैनगंगा नदी में इस वर्ष आई बाढ़ 1994 में आई बाढ़ से भी भयानक रही, ऐसा दावा यहां के वरिष्ठ नागरिक कर रहे हैं. बाढ़ के कारण हुए नुकसान की वजह से किसान पेशोपेश में पड़े हैं कि ने अपना तथा अपने परिजनों का पेट कैसे पालेंगे. वर्ष 2020 जहां कोरोना के कारण हर वर्ग के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा तो किसानों के लिए भी यह वर्ष बेहद दु:खदायी रहा. भंडारा की सातों तहसीलों में अतिवृष्टि ने हजारों लोग बेघर हो गए. जिला प्रशासन तथा सरकार बाढ़ प्रभावितों को तत्काल नुकसान भरपाई देने की मांग की जा रही है.