Etiadoh Dam

  • बाघ इटियाडोह सिंचाई विभाग सख्त

लाखांदूर. इटियाडोह बांध लाभ क्षेत्र के जल उपयोग संस्थान के तहत किसानों की ओर 2 करोड़ रुपये जल कर की राशि बकाया है. इस जल कर की राशि की वसूली के लिए संबंधित विभाग ने सख्त रवैया अपनाया है. किसानों के लिए जल कर दो और ग्रीष्मकालीन की फसल लो, ऐसा फरमान बाघ इडियाडोह सिंचाई विभाग ने जारी किया है.

4,500 हेक्टेयर क्षेत्र में होती है सिंचाई

जानकारी के अनुसार लाखांदूर तहसील का लगभग 4,500 हेक्टेयर क्षेत्र बाघ इटियाडोह सिंचाई विभाग के तहत आता है. इस लाभ क्षेत्र के तहत इटियाडोह बांध का पानी तहसील में किसानों को फसल के लिए उपलब्ध कराया जाता है. इस विभाग के तहत तहसील में लगभग 14 जल उपयोग संगठन कार्यरत है. इस संस्था के तहत लाभ क्षेत्र के किसानों द्वारा नियमित रूप से जल कर की वसूली का अधिकार संबंधित संस्था को दिया गया है.

इस वर्षाकाल के मौसम में संतोषजनक बारिश के कारण बांध में पर्याप्त जल संग्रहण है. ऐसी संभावना है कि इस वर्ष लाखांदूर तहसील में इस परियोजना के तहत ग्रीष्मकालीन धान की फसल का उत्पादन किया जा सकता है. किंतु तहसील के इटियाडोह लाभ क्षेत्र में आने वाले कुछ जल उपयोग संस्थान के तहत जल कर का भुगतान नहीं होने के कारण किसानों को इस विभाग के तहत जल कर भरने का आह्वान किया गया है. 

किसानों पर 2 करोड़ का जल कर बाकी

तहसील में लगभग 2 करोड़ रुपये की जल कर की राशि किसानों पर बकाया है. यह राशि 15 दिसंबर तक भरने का आह्वान किया गया है. इस वर्ष के खरीफ में बोई गई फसल पर बड़े पैमाने पर कीटों व तुड़तुड़ा के प्रकोप के कारण वापसी की बारिश ने फसल को भारी नुकसान पहुंचाया है. इसके कारण उत्पादन में गिरावट आई है. किसान आर्थिक संकट से आने की संभावना है. यह भी कहा जा रहा है कि इस पूरी स्थिति में किसानों को पर्याप्त पैमाने पर जल कर की राशि देना असंभव होगा. किसानों से आह्वान किया गया है कि आने वाले ग्रीष्मकाल के मौसम में इस बांध के लाभ क्षेत्र के तहत ग्रीष्मकालीन धान की फसल की बुआई और उत्पादन के लिए किसानों को स्वेच्छा से जल कर का भुगतान करना चाहिए.