Gold futures rise due to spot demand

भंडारा (का). कोरोना के कारण जारी लॉकडाऊन किया गया था. कुछ पैमाने में लॉकडाऊन को शिथिल किया गया था. लॉकडाऊन शिथिल होने के पश्चात जिले के बाजार शुरू करने की मंजूरी दी गयी. जिसमें जेवरात की दूकानें शुरू की गयी. इन दूकानों में सोना खरीदी करनेवाले कम तो सोना बेचने, गिरवी रखनेवाले ही ग्राहक ज्यादा हैं. जिससे सुवर्णकार ही समस्या में आ गए हैं.

दूकान में किसान, मजदूर, प्रति दिन मजदूरी का काम करनेवाला, झोपडपट्टी निवासी ऐसे ही लोगों की संख्या अधिक होने बातई जा रही है. मृग नक्षत्र के शुरुआत में ही किसानों के खेत कामों की शुरुआत हुई है. बीज खरीदी के लिए किसानों के पास पैसा कम होने से किसानों पर संकट छाया है समस्या में आया है. ऐसे में किसान कर्जमाफी का काम रूका है.

सातबारा पर कर्ज का उल्लेख होने से बैंक कर्ज देने के लिए तैयार नहीं है. इससे क्या करें क्या नहीं करे ऐसी स्थिति में किसानों ने साहुकार एवं सोनार की दुकानों में भीड़ की है. हाथ में काम नहीं होने से मजदूरों की दयनीय अवस्था हुई है.