रामटेक- खापा- गोंदिया मार्ग के सैकड़ों पेड़ों का कत्ल, पेड़ों की कमी से खोई सड़कों की सुंदरता

    तुमसर. रामटेक- खापा-गोंदिया राष्ट्रीय राजमार्ग को सीमेंटीकरण से पक्का करते समय सैकड़ों पेड़ों की कत्ल किया गया. इससे सड़क की सुंदरता खो गई है. सड़क के निर्माण के लिए दोनों बाजुओं के नीम, सागौन, पलास, आम, गुलमोहर, करंजी, मोह, खैर, चिचवा, बरगद आदि प्रजाति के पुराने पर्णपाती पेड़ों को काट दिया गया है. साथ ही सड़क के किनारे के सेब के जंगल भी काट दिए गए हैं.

    सड़कें हुई चौड़ी, लेकिन पेड़ों की छाया नहीं

    भले ही सड़क को पक्का एवं चौड़ा किया गया हो, लेकिन पेड़ों की छाया को हटाना एवं सीमेंट की सड़क बगैर पेड़ों के भंगार दिखती है. इसके पूर्व कई यात्री पेड़ की छाया में ऑटो जीप का इंतजार करते थे. चिलचिलाती धूप से बचाने के लिए पेड़ पौधे का मुख्य आधार होता था. सड़क पर चलते समय पेड़ों के कारण अधिक गर्म हवा नहीं लगती थी.

    सड़क से दौड़ने वाले कई वाहन पेड़ के नीचे कुछ पल के लिए रुकवाए जाते थे. लंबी दूरी के ट्रक चालक पेड़ों के नीचे खाना पकाने एवं आराम करते थे. पेड़ो की कटाई किये जाने से अब यात्रियों के पास भीषण गर्मी को सहने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है. 

    सड़क के दोनों  किनारे पर पौधारोपण करना है जरूरी

    पर्यावरण एवं यात्रियों के हित में लोक निर्माण एवं वन विभाग द्वारा सीमेंट रोड के दोनों बाजुओं में पौधारोपण करना जरूरी है. इसके लिए सरकार की ओर से दीर्घकालीन उपायों को लागू कर सड़क को हरा-भरा बनाना जरूरी है.

    शिवसेना द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग के अभियंता संजीव जगताप को निवेदन सौंपकर इस दिशा में तत्काल कार्रवाही करने की मांग की गई.इस अवसर पर शिवसेना विभाग प्रमुख अमित मेश्राम, जगदीश त्रिभुवंनकर, शाखा प्रमुख निखिल कटारे, तुषार लांजेवार आदि उपस्थित थे.