अवैध रूप से मवेशियों की ढुलाई : पुलिस ने रोका

    भंडारा. पशुओं निर्दयता से ले जाने पर कडे प्रतिबंध है. लेकिन इन नियमों को सरासर उल्लंघन किया जाता है. भंडारा पुलिस ने एसपी वसंत जाधव द्वारा अवैध धंदे के उच्चाटन के निर्देश दिया था. कारधा पुलिस स्टेशन थानेदार सहायक पुलिस निरीक्षक दिपक वानखेडे एवं उनकी टीम ने अवैध तरीके से मेवशियों को लेकर जा रहे गाडियों को धर दबोचा.

    कारधा पुलिस को गुप्त जानकारी मिली. इस आधार पर एक टीम रवाना की गयी. कारधा चेक पोस्ट के 500 मीटर पहले बोलेरो पिकअप गाडी क्र. एम. एच. 36 एफ 3121 को रोका गया. इस गाडी से कुल 7  गायों को बरामद किया गया. इसके अलावा गाडी क्र बोलेरो पिकअप क्र. एम. एच. 49 डी 6663 की गाडी से 3 गाय एवं 2 बैलों को ढूंसकर रखा गया था. जब उनसे पूछा गया कि मवेशियों को कहां लेकर जा रहे हो. गाडीचालक ने बताया कि वह मवेशी बाजार में बेचने के लिए लेकर जा रहा है.

    पुलिस ने कुल 12 मवेशियों को सुरक्षित बचाया. मवेशियों अवैध तरीके से लेकर जाने में इस्तेमाल हुई गाडी को धर दबोचा. आरोपियों को गिरफ्तारी के बाद सूचनापत्र पर छोडा गया. पुलिस ने इस मामले में धारा11(1)(ड)(ई)प्रा. नि. वा. का अधिनीयम 1960 सहधारा 83/177, सहधारा 34 के तहत मामला दर्ज किया है.

    आगे की जांच पुलिस उपनिरीक्षक परशुरामकर कर रहे है. इन जानवरों को साकोली तहसील के बरडकिन्ही स्थित गोवर्धन गौवंश सेवा अनुसंधान केंद्र में रखा गया है.  इस कारवाई को एसपी वसंत जाधव के मार्गदर्शन में थानेदार सहायक पुलिस निरीक्षक थानेदार दीपक वानखेडे, पुलिस उपनिरीक्षक परशुरामकर,  पुलिस नायक खडसे ने सफलतापूर्वक पूरा किया.