Dhaan Tulai
File Photo

तुमसर. किसी तरह के ठोस कारण नहीं होने के बावजूद जनप्रतिनिधियों के दबाव में आकर तुमसर मोहाड़ी क्षेत्र के 6 धान खरीदी केंद्र रद्द करवाए गए है. इससे संतप्त केंद्र चालकों की ओर से उनके साथ न्याय नहीं करने पर आत्मदाह करने की चेतावनी दी गई है.

उन्होंने बताया कि जिन कारणों से उनके केंद्र रद्द किए गए है, वही कारण अन्य 18 केन्द्रों पर होने के बावजूद उन्हें रद्द नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि संबंधित केंद्र भी रद्द करें. अन्यथा उन्हें भी केंद्र चलाने की अनुमति दी जाए.

जांच में निराधार साबित हुए आरोप

केंद्र चालक राजू गायधने ने बताया कि सरकार की ओर से उनकी संस्था को तुमसर, मिटेवानी व डोंगरी बु. में धान खरीदी केंद्र बहाल किए गए थे. फेडरेशन व बाजार समिति के दिशा-निर्देशासार किसानों का धान खरीदी किया जा रहा था, फिर भी क्षेत्र के विधायक की शिकायत पर उनके केंद्र की जांच पड़ताल की गई थी. उन पर 13 प्रकार के आरोप लगाए गए थे. जो पूरी तरह से निराधार साबित हुए थे. केवल उन पर निर्धारित गांवों के अलावा अन्य स्थानों के किसानों से धान खरीदी करने का कारण बताकर उनके केंद्र रद्द किए गए है. जबकि कार्य बाजार समिति को जानकारी देने के बाद ही किया गया था. 

शीघ्र न्याय देने की मांग

दूसरी ओर क्षेत्र के 18 केंद्रों के संचालकों की ओर से उनसे भी अधिक प्रमाण में निर्धारित गांवों के किसानों से धान खरीदी किए गए थे. उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है. गायधने ने बताया कि उन पर लगाए गए सभी आरोपों का जवाब देने पर उसे वरिष्ठों की ओर नहीं भेजते हुए डीएमओ की ओर से उनके केंद्र रद्द करने की सूचना देकर उन पर अन्याय किया गया है.

इस प्रकरण के संदर्भ में सांसद सुनील मेंढे की ओर से संबंधित प्रकरण की जांच कर यदि रद्द किए गए केंद्र चालक दोषी है तो इनके अलावा अन्य 18 केंद्रों को भी रद्द कर अधिकारियों ने अपने अधिकार का परिचय देना चाहिए. अन्यथा रद्द किए गए केंद्र बहाल करने की मांग की गई थी. इस ओर अब तक ध्यान नहीं दिया गया है. गायधने ने कहा कि यदि उनके साथ शीघ्र न्याय नहीं किया गया तो अधिकारियों की गलत नीति के खिलाफ वह उनके कार्यालय के सामने ही आत्मदाह करेंगे.