Nylon Manja
File Photo

  • नायलान मांजा का उपयोग नहीं करें

भंडारा. परिसर में बच्चा कंपनी में पतंग उड़ाने का फीवर बढ़ गया है. दोपहर 3 से शाम 6 बजे के बीच में चलता है यहां पर पतंग काटने की शर्त लगी रहती है, किंतु इस शर्त में कब कौन सी दुर्घटना होगी एवं कब किसकी जान जाएगी इसकी कोई गारंटी नहीं.

आमतौर पर पतंग उड़ाने का उत्सव जनवरी के संक्रांति को होता है. इस दिन पतंग उड़ाने वालों की बड़ी भीड़ दिखायी देती है. एक ने पतंग उड़ाने पर दूसरा भी उसके पीछे-पीछे पतंग उड़ाने की शुरूआत करता है. साथ ही पतंग पकड़ने के लिए दौड़ते हैं. बेसुध होकर राज्यमार्ग पर भी दौड़ते रहते हैं. भीड़ की वजह से इसमें जान भी जान सकती है.

प्रतिबंध के बाद भी नायलान मांजे की बिक्री

संक्रांति उपलक्ष्य में पतंगबाजी का आनंद लेने में सभी व्यस्त रहते हैं, मगर इसके लिए इस्तेमाल किए जाने वाला नायलान मांजे की वजह से खतरा होने से इस पर पाबंदी डालने का निर्णय पिछले वर्ष लिया गया है. ऐसा होने के बावजूद भी बाजार में बड़े पैमाने पर नायलान मांजा बिक्री के लिए उपलब्ध होने से पाबंदी का क्या ऐसा सवाल उपस्थित होता है. प्रति वर्ष संक्रांति के दौरान मांजे की वजह से दुर्घटना होकर जान जाने अथवा जख्मी होने की घटनाएं होती हैं. उडनेवाले पक्षीयों की भी इसमें जान जाती है. 

ध्यान देने योग्य बातें

बिजली तार पर से पतंग निकालना पर जान जा सकती है. बिजली तार में फंसा मांजा नहीं निकाले, अटकी पतंग व मांजा निकालने के लिए डीपी पर नहीं चढ़े. नायलान मांजा का उपयोग नहीं करें, बिजली तार होने वाले परिसर में पतंग नहीं उड़ाएं. बिजली तार में अटकी पतंग निकालने के लिए पत्थर बांधकर तार पर नहीं फेंके, पतंग उड़ाने वाले बच्चों पर अभिभावक ध्यान दें.