Tripura government takes initiative to teach students through mobile phones
File Photo

भंडारा. वर्तमान में स्मार्ट फोन सभी के जीवन का एक आवश्यक उपकरण बना है. बच्चों की पढाई से लेकर जीवनावश्यक वस्तुओं तक स्मार्ट फोन अधिक आवश्यक हो चुका है. हालांकि इसके ज्यादा इस्तेमाल के कारण नाबालिग लडके, युवा तथा वृद्ध टेक्स्ट सिंड्रोम जैसी बिमारी का शिकार हो रहे है. गर्दन के दर्द के कुल मरीजों में से टेक्स्ट सिंड्रोम जैसी बिमारी से बडे पैमाने पर लोग ग्रस्त है.

आनेवाले कार्यकाल में यह समस्या अधिक तीव्र होने की संभावना है. तकनीकी के इस्तेमाल से अपना जीवन आसान हुआ है. इसके साथही स्वास्थ्य संबंधित समस्या भी नर्मिाण हुई है. इनमें से एक टेक्स्ट नेक सड्रिंोम यह बिमारी कुछ वर्ष पूर्व ही सामने आई है. अब संगणक की जगह स्मार्ट फोन, टैब्लेट्स ने ली है.

आज की पीढि हो या वृत्रों को स्मार्ट फोन से घेर लिया है. हर घर में 3 से 4 लोगों के पिछे 3 से 4 स्मार्ट फोन रहते है. इन मोबाईल के बढते इस्तेमाल से मनुष्य के स्वास्थ्य पर परिणाम होता है. इस कारण मनुष्य हड्डियों की समस्या में वृद्धी हुई है.