नायलान मांजा विक्रेताओं पर शिकंजा, नप ने की बडी कारवाई

  • 10 हजार रु. जुर्माना भी लगाया

भंडारा. मकरसंक्राति के पर्व पर पतंगबाजी की परंपरा निभाई जाती है. पूरा आकाश पतंगों से भर जाता है. लेकिन यह पतंगबाजी ने परंपरा को पिछे छोड रोमांच एवं प्रतिस्पर्धा का रूप ले लिया है. पतंगों को काट सके चक्कर में नायलान का दागा इस्तेमाल होता है. इस धागे की वजह से पक्षी एवं इंसानों को भी अपनी जान से हाथ धोना पडा है. गुरुवार को भंडारा नप की टीम ने अचानक कारवाइ की एवं 4 दुकानों पर छापा मारा. इस कारवाई में 10000 रु. का जुर्माना भी वसुला गया

नप सूत्रों ने बताया कि गुरुवार की कारवाई में 4 पतंग दुकानदारों से 47 बडे बंडल नायलान मांजा बरामद किया गया. जिन दुकानों पर कारवाई की गयी, उनमें अविनाश फटाका सेंटर, जिया पतंग सेंटर, निरंकारी वाच एण्ड सेंटर, मां रेणुका बुट हाऊस  का समावेश किया गया. इस कारवाई को मुख्याधिकारी विनोद जाधव के नेतृत्व में संग्राम कटकवार, मिथुन मेश्राम, कीरण कटकवार, कु. लिपीका गणवीर का समावेश है.

घनकचरा व्यवस्थापन में नष्ट करेंगे

नप सूत्रों ने बताया कि जप्त किए गए मांजे को घनकचरा व्यवस्थापन केंद्र में नष्ट किया जाएगा.

मांजे से कटी केबल

नायलान मांगा कितना मजबूत एवं पैना होता होता है, इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि गुरुवार सुबह में जेएम पटेल कालेज के पिछे राजगोपालाचारी वार्ड परिसर में युसीएन केबल कटा हुआ पाया गया. लोगों ने जब जांच की तो पता चला कि नायलान मांजे की वजह से केबल कटी थी. शिकायत के बाद केबल संचालक द्वारा मरम्मत की गयी.

रस्से को काट दिया मांजे ने

स्थानीय एमएसईबी कालोनी में नायलन मांजे की वजह से कडे सुखाने की मोटी रस्सी के कटने का मामला सामने आया है. यह घटनाएं बताती है कि नायलान मांजे का प्रयोग कितना खतरनाक है.