केसलवाडा/वाघ में अस्पताल में सुविधाओं की अनदेखी

    • PHC में बगीचा व वाहन शेड की प्रतीक्षा 

    लाखनी. तहसील के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र केसलवाडा वाघ में अस्पताल की सुसज्ज इमारत, अधिकारी कर्मचारियों के लिए निवास, दीवार, इमारत में इलेक्ट्रिक फिटिंग, बगीचा, वाहन स्थल शेड, परिसर में सड़कें आदि बातों का समावेश है. इसके बाद भी कनिष्ठ अभियंता एवं ठेकेदार की सांठगांठ में बगीचा एवं वाहनस्थल शेड तैयार नहीं किए जाने का आरोप स्वास्थ्य कर्मचारियों ने किया है. स्वास्थ्य केंद्र इमारत निर्माणकाम की वरिष्ठ स्तर पर जांच करने की मांग की जा रही है. 

    लाखनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को सरकार ने ग्रामीण अस्पताल का दर्जा दिया है. यह प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र केसलवाडा वाघ में स्थानांतरित किया गया. इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का कार्यक्षेत्र 10 चौरस किमी क्षेत्र में 11 गांवों का समावेश है. 34,000 जनसंख्या को स्वास्थ्य सेवा आपूर्ति की जाती है.

    इसके अलावा भंडारा तहसील के पिंपलगांव, माडगी एवं पुरकाबोडी आदि गांवों के मरीज अपने साधन से यहां उपचार के लिए आते हैं.  स्वास्थ्य कर्मचारियों की ओर बाइक एवं अस्पताल का वाहन है. किंतु साइकिल, बाइक एवं चारपहिया वाहन रखने के शेड ही नहीं है. यह अस्पताल जिप के पुरानी इमारत में शुरू था. कम जगह अभाव के कारण मरीजों पर उपचार करने के लिए स्वास्थ्य कर्मचारियों को समस्या आती थी. 

    मरीजों की परेशानी दूर होने का विचार कर केसलवाडा वाघ में सुसज्ज इमारत में सरकार ने 2 करोड़ रु. निधि उपलब्ध कर उसमें स्वास्थ्य केंद्र मुख्य इमारत, अधिकारी, कर्मचारी निवास स्थान, दीवार, वाहन स्थल स्टैंड, बगीचा, पाइप लाइन, इलेक्ट्रिक फिटिंग आदि कामों का समावेश है.  किंतु राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान के कनिष्ठ अभियंता एवं ठेकेदार की सांठगांठ से वाहन स्थल स्टैंड एवं बगीचा का काम नहीं किया गया है. इस प्रकार की स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने जांच कर संबंधितों पर कार्रवाई करने की मांग हो रही है. 

    अधूरा निर्माणकाम होने पर भी देयक मंजूर 

    सरकारी इमारत अथवा अन्य निर्माणकाम पूर्ण होने पर संबंधित कार्यालय प्रमुख की ओर निर्माणकाम पूर्ण होने का प्रमाणपत्र के बगैर ठेकेदार को देयक अदा नहीं की जाती है. ऐसा नियम है. किंतु केसलवाडा वाघ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इमारत निर्माणकाम में कुछ बातों की पूर्तता नहीं होने पर भी प्रमाणपत्र किसने दिया तथा ठेकेदार को देयक कैसा प्राप्त हुआ यह संशोधन का विषय है. 

    काम नहीं किया गया : राऊत

    केसलवाडा वाघ अस्पताल के वैद्यकीय अधिकारी डा. डी.ए. राऊत ने बताया इमारत निर्माणकाम होने के पश्चात भी वर्षभर देखरेख का काम ठेकेदार की ओर ही रहने बात कनिष्ठ अभियंता ने कही.  वाहनस्थल शेड एवं बगीचा करने का आश्वासन दिया है. किंतु वर्ष पूर्ण होने के पश्चात भी काम नहीं किया गया है.