paddy centers

    भंडारा. ग्राम आंदोलन समिति के आक्रामक आंदोलन के बाद जिला विपणन अधिकारी गणेश खर्चे ने घोषणा की कि राजेगांव धान खरीदी केंद्र फिर से खोला जाएगा. उन्होंने बताया कि युद्धस्तर पर धारगांव धान खरीदी केंद्र में कुल 7,000  बारदाने की व्यवस्था कर दी गई है. और 4 ट्रक बारदाना कोलकाता से जिले में आएगा. 

    पिछले कुछ दिनों से धारगांव के किसानों ने ग्राम आंदोलन समिति की ओर से विभिन्न आंदोलन किए हैं. इससे पहले धारगांव परिसर के धान उत्पादक किसानों पर राजेगांव के केंद्र में ग्राम आंदोलन समिति द्वारा हमला किया गया था. धारगांव धान खरीदी केंद्र से परिसर के 12 गांवों के किसान जुड़े हैं. बारदाना खत्म हुआ तो किसानों को धान खरीदी केंद्र से वापस भेजा जा रहा था.

    इस कारण बोरियों की व्यवस्था की जाए, किसान पंजीकरण संख्या के अनुसार धान न लें, प्रत्येक बोरी के पीछे 15 रु. हमाली ली जा रही थी. मिलावट के कारण किसानों को कितना अधिक धान लेना चाहिए, यह निर्धारित करें, किसानों का धान खरीदी होने तक खरीदी केंद्र खुला रखें आदि  मांगें किसानों द्वारा की गई. उक्त मांगों का समाधान नहीं होने पर ग्रामीणों ने  गुरुवार को जिला विपणन अधिकारी के कार्यालय में ताला लगाने का निर्णय लिया था.

    इसी के तहत भंडारा जिला प्रशासन, पुलिस विभाग ने ग्राम आंदोलन समिति को चर्चा के लिए जिला विपणन अधिकारी गणेश खर्चे के कक्ष में बुलाया था. 

    इस अवसर पर ग्राम आंदोलन समिति के महेंद्र निंबार्ते, मंगेश वंजारी, महेश गिरेपुंजे, दीपक वंजारी, नीलकंठ कायते, शंकर लोले, आकाश वंजारी, पंढरी गिरपुंजे, विलास वरकडे, भूषण मरघडे, पुलिस विभाग द्वारा राम दीक्षित, महेश रघुवंशी, नरेंद्र झलके अन्य पुलिस एवं होमगार्ड कुमक तथा किसान उपस्थित थे.