Paddy
File Photo

    भंडारा. गोदाम व बारदाना नहीं होने से कई किसान धान नहीं बेच पाए. समय सीमा समाप्त होने के बाद किसान परेशान हो गए थे. अब सरकार ने धान खरीदी की समय सीमा 22 जुलाई तक बढ़ा दी है. इससे किसानों को काफी राहत मिलेगी.  विधायक डा. परिणय फुके ने सहकारिता मंत्री से धान खरीदी की समय सीमा बढ़ाने की मांग की थी.

     गोदाम व बारदाना नहीं होने से खरीदी हुई प्रभावित

    गोदाम नहीं होने से खरीफ सीजन में धान खरीदी प्रभावित हुई. पीसने का भी सवाल था. इसका सीधा असर रबी सीजन की धान खरीदी पर पड़ा. करीब 20 दिन की देरी से धान की खरीदी शुरू हो गई. पहले धान खरीदी की समय सीमा 30 जून थी. लेकिन धान की पूरी खरीदी नहीं हो पाई. इसके लिए 15 दिन का समय दिया गया है. 15 जुलाई की समय सीमा के साथ बारदाने की कमी के कारण धान खरीदी रोक दी गई थी. कई किसान अपना धान नहीं बेच पाए.

    इस वजह से समय सीमा बढ़ाने की मांग की गई. इस बात को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रही कि समय सीमा बढ़ाई जाएगी या नहीं. यह मामला ध्यान में आते ही विधायक डा. परिणय फुके ने खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री व सहकारिता मंत्री से मुलाकात की. धान खरीदी को 31 जुलाई तक बढ़ाने की मांग की. इस बीच सरकार के संयुक्त सचिव सुधीर तुंगार ने 16 जुलाई को आदेश जारी कर धान खरीदी की समय सीमा 22 जुलाई तक बढ़ा दी है. किसान अब राहत की सांस लेते नजर आ रहे है. 

    30 जून तक पंजीकृत किसानों की धान खरीदी 

    धान खरीदी की समय सीमा भले ही बढ़ा दी गई हो, लेकिन फिर भी नए किसान पंजीकरण न कराएं, ऐसा आदेश में कहा गया है. 30 जून तक पंजीकृत किसानों को ही धान खरीदने के निर्देश दिए गए है. आदेश में कहा गया है कि धान का भंडारण खुले में नहीं किया जाना चाहिए, गोदाम की उपलब्धता को देखते हुए ही धान की खरीदी की जानी चाहिए.