CT Scan
File Photo

  • कलेक्टर से दर निर्धारण समिति बनाने की मांग

तुमसर. कोरोना संक्रमण के दौरान मरीजों की मजबूरी का लाभ उठाकर चेस्ट सीटीस्कैन के नाम पर रेडियोलॉजिस्ट डाक्टर की ओर से मरीजों को सरेआम लूटा जा रहा है. प्रशासन से ध्यान देने की मांग जिला कांग्रेस महासचिव गौरीशंकर मोटघरे ने की है.

उन्होंने बताया कि, स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश के बावजूद डाक्टर द्वारा सिटी स्कैन के लिए मरीजों से तीन गुना अधिक शुल्क वसूल किया जा रहा है. पहले परीक्षण 2,500 से 3,000 रुपये की लागत से किया जा रहा था, किंतु अब मरीजों को इस टेस्ट के लिए 6,000 से 7,000 रुपये वसूल किये जा रहे हैं. डॉक्टरों द्वारा जहा कोरोना जैसी आपात स्थिति के दौरान रोगियों को इमानदारी से सेवाएं प्रदान करने की आवश्यकता व जिम्मेदारी हैं, वहीं शहर में यह देखा जा रहा है कि, कुछ डॉक्टरों द्वारा रोगियों के परीक्षण शुल्क में वृद्धि कर मरीजों को लूटने का कार्य किया जा रहा है. 

मरीजों की लगी रहती है कतार
शहर में एकमात्र रेडियोलॉजिस्ट डाक्टर के पास सिटीस्कैन मशीन है. वर्तमान में रोगियों की संख्या में पहले से अधिक वृद्धि हुई है. वर्तमान कोरोना के दौर में श्वसन संबंधी बीमारियां भी बढ़ गई हैं. इस कारण प्रत्येक बीमार मरीज को डॉक्टर द्वारा फेफड़ों का सिटी स्कैन करने की सलाह दी जाती है. इससे रेडियोलॉजिस्ट के पास वर्तमान में मरीजों की कतार लगी हैं. हालांकि, छाती के सिटीस्कैन के लिए यहां आने वाले रोगियों से  सिटी स्कैन  का शुल्क पहले से अब तीन गुना वसूल किया जा रहा है. इसमें सामान्य से बहुत सामान्य वर्ग के मरीज को भी उसी दर से भुगतान करना पड़ रहा है.

मोटघरे ने कहा कि वर्तमान में कोरोना के मद्देनजर लोगों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. जिससे सिटी स्कैन के लिए इतने पैसे खर्च करना मुश्किल हो रहा है.