उमस ने कर दिया जीना हराम, न दिन को आराम और न रात को चैन

    भंडारा. मौसम ने फिर एक बार करवट बदली और देखते ही देखते आसमान साफ हो गया. अलबत्ता पिछले तीन-चार दिन से दिन में बादल चिढ़ाने के लिए जरूर इकट्ठा होते हैं. ललचाते हैं कि कुछ देर में बरसेंगे. लेकिन चुटकी लेकर गायब हो जाते हैं.

    इन दिनों भंडारा जिले में हर दिन एवं रात पसीने में बीत रही है. न दिन में आराम है और रात को चैन की स्थिति से गुजर रहे भंडारा जिले को बारिश का इंतजार है.

    तेज धूप से परेशान

    सुबह से ही तेज धूप तपा रही है. रात में उमस ने हलकान करना शुरू कर दिया है. पसीने से शरीर तर-बतर होने लगा है. दोपहर होते- होते पारा करीब तेजी बढ़ने लगता है. यद्यपि पारा 32 के उपर ही है. लेकिन तप रही धूप असहनीय है. यही वजह है कि दिन तो तप रहे हैं रात में भी उमस के कारण घर के भीतर चैन नहीं मिल रही है.