NFPE Strike

भंडारा. आल इंडिया पोस्टल एमप्लाइज यूनियन की ओर से आयोजित देशव्यापारी आंदोलन के तहत नागपुर ग्रामीण विभाग डाक कर्मचारियों ने गुरुवार को 1 दिवसीय हड़ताल का एलान किया था. हड़ताल का असर पूरे जिले में देखा गया. डाक सेवा बूरी तरह प्रभावित हुई. डाक कर्मचारियों ने भंडारा स्थित प्रधान डाकघर के सामने विरोध प्रदर्शन किया.

कर्मचारियों की मांग थी कि पुरानी पेंशन लागू करें, ग्रामीण डाक सेवक कर्मचारियों को कमलेश चंद्र कमेटी रिपोर्ट लागू कर लाभ देते हुए उन्हें डाक विभाग में शामिल किया जाना चाहिए, डाक विभाग में रिक्त पदों को भरने, निजीकरण एवं ठेका पद्धति बंद करने, 5 दिनों का सप्ताह लागू करने, कोविड-19 की वजह से मृत कर्मचारियों के परिवार को 10 लाख की सहायता देने आदि मांगों को लेकर आंदोलन किया गया.

आंदोलन में टी. एस. लांजेवार,  एस. डी. सातपुते, एम. एल. दीघोरीकर, एम. जी. बारापात्रे,  ए. पी. ठवकर, भूषण घाडगे, जे.एच. कमाने, बी.एम. वाघमारे, एन.पी. चौव्हान, एस.यू. बागडकर, एन. वी. रामटेके, पी. एन. शास्त्रकार, एस. एन. निमजे, एस.बी. बडवाइक, इशा उके, आर. जी. दखणे, आर. डी. बेलेखोडे,  ए. वाय. भुरे, बी. डी. सोनकुसरे योगेश कटरे, देवेन्द्र वाकोडीकर, एस. आर. निरमोही व अन्य कर्मचारियों ने हिस्सा लिया.