bus
Representational Pic

  • कांग्रेस नेता मोटघरे ने की थी मांग

तुमसर. राज्य सरकार ने एसटी निगम को 550 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा के साथ जिले सहित राज्य में एसटी कर्मचारियों के भुगतान का रास्ता आसान हो गया है. राज्य में लॉकडाउन होने के बाद से राज्य सरकार के निर्देशानुसार महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम की बस सेवा बंद थी. नतीजतन एसटी निगम की आय बंद हो गई थी. 

राज्य सरकार ने कुछ ढील के साथ मई में जिले में बस सेवा शुरू की  किंतु जब यह सेवा शुरू की गई, तो 50 प्रश बैठने की क्षमता वाली बस सेवा शुरू की गई.  एसटी निगम की आय के स्रोत में कमी आने से कर्मचारियों के वेतन का भुगतान 3 महीने तक नहीं किया जा सका था.

550 करोड़ के पैकेज की घोषणा
कांग्रेस जिला महासचिव मोटघरे ने विधानसभा अध्यक्ष से एसटी कर्मचारियों के ज्वलंत मुद्दे को उठाकर न्याय दिलाने की मांग की थी.  उप मुख्यमंत्री के साथ चर्चा के बाद एसटी निगम के लिए 550 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की गई.  बस सेवा मई से जिले के मुख्य मार्ग पर चल रही है. कोरोना संक्रमण के चलते बसों में कम यात्री आवागमन कर रहे हैं.  इससे एसटी निगम को वित्तीय नुकसान हो रहा है. एसटी महामंडल का आय का मार्ग बंद होने से मई में आधा वेतन का भुगतान किया गया है. 

कर्मचारियों को केवल 2 से 4 हजार उनके हाथ मे मिले थे. जून के वेतन का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है.  जुलाई का वेतन लंबित है. कुछ कर्मचारियों को अनिवार्य छुट्टी पर भेजा गया है. जिसके परिणामस्वरूप एसटी कर्मचारियों व उनके परिवारजनों पर भुखमरी की नौबत आ पड़ी है.