File Photo
File Photo

  • कोरोना मरीजों के बढ़ने की आशंका
  • जिला प्रशासन का ध्यान जरूरी

कोंढ़ा कोसरा (सं). यहां के साप्ताहिक बाजार तथा पशुओं का बाजार जिला प्रशासन की अनुमति से शुरु तो कर दिया गया, लेकिन कोरोना से बचाव के लिए जिन नियमों का अनुपालन जरूरी है, वह नहीं हो रहा है, इस वजह से क्षेत्र में कोरोना का फैलाव होने की आशंका बढ़ गई है. जिलाधिकारी ने बाजार में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति से मॉस्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग की अपील तो की है, लेकिन जिलाधिकारी की अपील पर जरा सा भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

बाजार में आने वाले ग्राहकों तथा व्यापारियों के दूसरे प्रांत से आने के कारण कोरोना विषाणु के फैलाव की आंशका से इंकार नहीं किया जा सकता.  कोंढा के साथ-साथ इस परिसर में कोरोना महामारी का फैलाव न हो, इसलिए भीड़ पर नियंत्रण रखने के लिए ग्राम पंचायत प्रशासन को और सतर्क होकर काम करना पड़ेगा. ग्राम पंचायत ने क्षेत्र के हर व्यक्ति से अपील की है कि वह अपनी तरफ से यह कोशिश करे कि कोरोना महामारी का फैलाव न हो.

छह माह के लंबे अंतराल के बाद कोंढ़ा कोसरा का साप्ताहिक बाजार तथा पशु बाजार को यह लक्ष्य सामने रखकर शुरु किया गया था कि लोग नियम का पालन करते हुए बाजार में आएंगे तथा अपनी जरूरत की चीजें खरीदेंगे. छह माह तक बंद रहने के बाद जब 9 सितंबर को कोढ़ा का पशुओं का साप्ताहिक बाजार शुरू हुआ तो वहां गाय, भैंस बिक्री के लिए लाए गए. यहां पर न केवल भंडारा बल्कि समूचे विदर्भ ही नहीं पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश के व्यापारियों, किसानों, पशुपालकों का जमावड़ा होने लगा. बाजार में सामाजित दूरी बनाए रखकर सभी के हाथों को सेनेटाइजर से धुलवाया तो जा ही रहा है, साथ ही सभी को मुंह पर मॉस्क  लगाने के निर्देश दिए गए हैं, बावजूद इसके ज्यादातर लोग इसका पालन नहीं कर रहे हैं.

सब्जी का साप्ताहिक बाजार गुरुवार तथा रविवार को लगता है, वहां भी नियमों का पालन अच्छी तरह से नहीं किया जा रहा है. यहां का पशुओं का बाजार समूचे विदर्भ में प्रसिद्ध होने के कारण यहां खरीदने और बेंचने वाले दोनों का जमावड़ा होता है. बाजार में सब्जी तथा पशुओं के आने जाने का सिलसिला लगातार जारी रहता है, इसलिए यहां अगर एक भी कोरोना पॉजिटिव मरीज पाया गया तो उसके भयंकर परिणाम होंगे, ऐसे में अगर इन बाजारों से निकट भविष्य में कोई कोरोना मरीज सामने आया तो देखते ही देखते भंडारा जिले में कोरोना   प्रभावित मरीजों की संख्या बढ़ने से रोक पाना बहुत मुश्किल होगा.