हवालदार समेत PSI को करें निलम्बित

  • तहसील भाजपा ने सौंपा निवेदन

लाखांदूर. आधी रात के दौरान नाटक के शुभारंभ कार्यक्रम को निपटाने के बाद बाइक से अपने गांव वापस आने वाले रास्ते पर जानलेवा हमले को अंजाम देने वाले आरोपी के खिलाफ पालांदूर पुलिस ने पारस्परिक रूप से हस्तक्षेप अपराधों के बजाय गैर-अवरोधी अपराध दर्ज करने का आरोप लगाते हुए पुलिस हवालदार के समेत पुलिस उपनिरीक्षक को निलम्बित करने की मांग का निवेदन मुख्यमंत्री के नाम सौंपा गया.

निवेदन के अनुसार 13 दिसंबर को तहसील के पाचगांव के सरपंच दत्तराज दोनाडकर व पालेपेंढरी के उप-सरपंच भोजराज नान्हे मध्यरात्रि के दौरान तहसील के तिरखुरी में आयोजित नाटक के शुभारंभ कार्यक्रम को निपटाने के बाद वापस गांव जा रहे थे. इस बीच रास्ते में पेशाब करने रूकने पर 4 लोगों ने सरपंच व उप-सरपंच पर हमला किया. पीड़ित सरपंच व उप-सरपंच ने हमले से बचने के लिए जोर से चिल्लाया. उनकी आवाजें सुनकर, कुछ दूरी पर होनेवाले पूर्व जिप सदस्य प्रदीप बुराडे कुछ नागरिकों के साथ उनके बचाव में आ रहे थे यह देख हमलावर भाग गए.

घटना के दूसरे दिन पीड़ित सरपंच ने पालांदूर पुलिस के साथ 4 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. किंतु इस शिकायत के तहत पालांदुर पुलिस ने पारस्परिक रूप से हस्तक्षेप अपराधों की बजाय गैर-अवरोधी अपराध दर्ज किए. इसलिए पुलिस हवालदार के साथ-साथ ही पुलिस उपनिरीक्षक को निलंबित करने की मांग का निवेदन की गई है.

शिष्टमंडल में भाजपा तहसील अध्यक्ष विनोद ठाकरे, पूर्व उपसभापति शिवा देशकर, पूर्व नगरसेवक नरेश खरकाटे, हरिश बगमारे, रमेश मेहंदले, सुनील भोवते, दीपक बुराडे, सरपंच दत्तराज दोनाडकर, विठ्ठल माकडे, मारोती दुपारे, योगेश ठाकरे, ममता तुपटे, विभा दरवरे, मीरा माकडे सहित अन्य 50 से 60 महिला पुरूष नागरिक उपस्थित थे.