File Photo
File Photo

  • स्कूल प्रबंधन कर रहा परेशान

भंडारा. कक्षा 8 वीं की पढ़ाई का पहला टर्म पूरा होने के बाद टीसी मांगने पर स्कूल ने पहले फीस भरने की शर्त रखी. इसे आरटीआई का उल्लंघन बताते हुए अभिभावक ने विधानसभा अध्यक्ष से लेकर प्रधानमंत्री तक शिकायत की है.

स्टेट बोर्ड में पढ़ना चाहती है

अभिभावक निशिकांत भेदे ने बताया कि उसकी बेटी कु. स्वामीनी स्थानीय सनीज स्प्रिंगडेल सीबीएसई स्कूल में कक्षा 7 वीं उत्तीर्ण हुई. उसे कक्षा 8 वीं स्टेट बोर्ड पैर्टन में पढ़ना है. इसलिए 24 अक्टूबर को टीसी के लिए आवेदन किया. इस बीच स्वामिनी ने मार्डन हाईस्कूल सातोना में एडमिशन लिया. डेढ़ महीने बाद भी जब टीसी नहीं मिली तो मामले की शिकायत सांसद, विधानसभा अध्यक्ष एवं प्रधानमंत्री से की. जिसमें उसने शिक्षा का अधिकार कानून का हवाला देते हुए दावा किया कि कोई भी स्कूल टीसी देने से इंकार नहीं कर सकता.

नहीं किया शुल्क का भुगतान : प्रबंधन

इस मामले में स्कूल प्रबंधन के सूत्रों ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि अगर कक्षा 7 वीं के रिजल्ट के तुरंत बाद आवेदन किया होता तो टीसी तत्काल मिल गयी होती. कोरोना के काल में जारी सरकारी परिपत्रक में यह नहीं कहा गया था कि फीस देनी नहीं है, बल्कि यह कहा गया था कि शुल्क को चरणबद्ध तरीके से लिया जा सकता है. टीसी के लिए आवेदन मिड सेशन में किया गया है. तब तक ऑनलाइन एजुकेशन परीक्षा हुई है, लेकिन अभिभावक ने किसी भी शुल्क का भुगतान नहीं किया है. स्वाभाविक है कि बगैर फीस दिए टीसी जारी नहीं की जा सकती.