Cold stress is increasing gradually

भंडारा (का). पिछले 2-3 दिनों से आसमान में बादल छाए हुए है. और आसमान साफ ​​रहने से न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट आई है. मौसम विभाग द्वारा अनुमान लगाया जा रहा है कि अगले 2 से 3 दिनों में तापमान में फिर से 10 से 11 डिग्री की गिरावट आएगी. इस कारण ठंड फिर से बढेगी. बताया जाता है कि यह ठंड गेंहू, चना व सागसब्जी फसल के लिए अच्छी है.

गेहूं, चना एवं सब्जियों के लिए फायदेमंद

पिछले सप्ताह जिले में न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई थी. हालांकि, आसमान में बादल छाए रहने के कारण इसमें गिरावट आई. अब जब आसमान साफ ​​है, ठंड तेजी से बढ़ रही है. जिले के खेत परिसर में खरीफ सीजन के धान, रबी सीजन के गेहूं, चना, लाख, लाखोरी, बटाना, पोपट आदि की फसलों की बुआई शुरू है. वही कुछ किसान पहले ही रबी सीजन की फसल बो चुके है. कुछ किसानों का रबी सीजन का फल जमीन से निकला है. कुछ कृषि परिसरों पर बीज उगने शुरू हो गए है. जब ठंड और बढ़ जाती है, तो यह रबी फसल के लिए फायदेमंद होगा. 

किसानों में खुशी और दुख की स्थिति

इसके अलावा, भारी बारिश, बाढ़ व लगातार बारिश के कारण इस साल नदियों, नहरों, तालाबों में लबालब पानी भरा है. इसके कारण, जिन किसानों को सिंचाई की सुविधा है और नहर के माध्यम से परियोजना से पानी मिलता है, उन्होंने ग्रीष्मकाल मौसम के लिए अपने खेतों में धान की नर्सरी बुवाई शुरू कर दी है. कुछ किसानों की धान की नर्सरी झुम रही है. लेकिन बहुत ज्यादा ठंडी ग्रीष्मकालीन धान नर्सरी के लिए घातक है. इसके कारण किसानों में खुशी और दुख की स्थिति है.