Collector Sandeep Kadam

    भंडारा. भंडारा जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए टीकाकरण कार्य को युद्ध स्तर पर किया जा रहा है.  कोरोना संक्रमण से बचने के लिए टीकाकरण की एकमात्र उपाय होने की बात जिलाधिकारी संदीप कदम ने कही है. उन्होंने आगे कहा कि भंडारा जिले में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण किया गया है, जिन फ्रंटलाइन वर्कर्स ने टीका लिया था, उनमें कोरोना संक्रमण की दर बेहद मामूली याने केवल 0.04 प्रतिशत है.  जबकि अब तक जिले में टीका लेने के बाद कोरोना से एक भी मृत्यु नहीं हुई है.   इसलिए भंडारा जिले के जिन पात्र नागरिकों ने अब तक टीकाकरण नहीं करवाया है, उन सभी से टीकाकरण अवश्य करने एवं स्वयं को सुरक्षित रखने का आह्वान जिलाधिकारी संदीप कदम ने किया है.

    अफवाह पर ध्यान न दें 

    टीका लेने से कोरोना का संक्रमण का डर बढ़ जाता है ऐसी अफवाह बड़े पैमाने पर फैलाई गई.  विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र में नागरिक टीकाकरण से बचने के लिए कोरोना संक्रमण का डर बता रहे हैं.  जिलाधिकारी संदीप कदम ने कहा कि यह आशंका पूरी तरीके से निराधार है. देश में कोरोना वायरस  की दूसरी लहर शुरू है. यह लहर पहली लहर से भिन्न एवं ज्यादा तीव्र है. चूंकि पहली लहर में टीका नहीं था. इस वजह से मृत्यु का प्रतिशत अधिक था. लेकिन अब जब टीका उपलब्ध है और जिन भी लोगों ने टीका लिया है,  उसमें से किसी भी नागरिक की  कोरोना की वजह से मृत्यु नहीं हुई है.

    जिलाधिकारी ने बताया कि कोरोना की के पहले लहर में जिले के 150 पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारी कोरोना से पीड़ित हुए थे.  फ्रंटलाइन वर्कर के तौर पर उन्हें प्रमुखता से टीकाकरण कराया गया यही कारण है कि दूसरी लहर तीव्र होने के बावजूद  अब तक एक भी पुलिसकर्मी गंभीर श्रेणी में नहीं है. 

    इसका एकमात्र कारण टीकाकरण है. उन्होंने बताया कि पिछले बार राज्य में कई अधिकारी एवं कर्मचारियों की मृत्यु की संख्या अधिक थी.  लेकिन इस बार जिन्होंने टीका लिया है ऐसे एक भी अधिकारी या कर्मचारी की मृत्यु नहीं हुई है. इसलिए तथ्यों पर विश्वास रखना चाहिए. नागरिकों को भी किसी भी तरह की अफवाह पर भरोसा नहीं करना चाहिए एवं टीकाकरण करवाना ही चाहिए. 

    कवच कुंडल

    जिला अधिकारी संदीप कदम ने कहा कि टीकाकरण के बाद भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है.  लेकिन जिनके पास में टीकाकरण का कवच कुंडल होंगे, वह सुरक्षित रहेंगे, यह भी बात उतनी ही सच है.  टीका पूरी तरह से सुरक्षित है. टीकाकरण से अपना जीवन सुरक्षित रहेगा इस बात पर नागरिकों ने विश्वास रखना चाहिए.  जिले के ग्रामीण क्षेत्र में टीकाकरण को नागरिकों द्वारा सफल बनाने का आह्वान उन्होंने किया.

    यह हैं आंकड़े

    भंडारा जिले में 16 जनवरी 2021 से टीकाकरण अभियान प्रारंभ हुआ इसमें अब तक 161511 नागरिकों को पहला एवं 20140  नागरिकों को दूसरा  दिया जा चुका है.  इसमें से पहली बार कोरोनावायरस से मुकाबला करने वाले 1018 हेल्थ वर्कर हेल्थ केयर वर्कर को डोज दिया गया. 6484 हेल्थ वर्कर वर्कर को दूसरा डोस दिया गया है.  8974 फ्रंटलाइन वर्कर को पहला डोज दिया गया है.  जिन लोगों की उम्र 45 से अधिक हैं ऐसे 142 459 लोगों को पहला डोज एवं 14984 लोगों को दूसरा डोज दिया गया है.