अनदेखी: अनुकंपा तत्व पर नहीं मिल रही नौकरी, भुखमरी की नौबत

    •  मायल कर्मियों की समस्याएं हल करें 

    तुमसर. सांसद प्रफुल पटेल द्वारा तहसील के चिखला निवासी दिलीप सोनवाने के निवास स्थान को भेंट दी. इस अवसर पर पूर्व जिप सदस्य संगीता सोनवाने एवं राकां पदाधिकारी दिलीप सोनवाने ने निवेदन सौपंकर कहा कि, मैंगनीज एंड इंडिया लिमिटेड (मॉयल) में मेडिकल अनफिट के कई श्रमिक एवं कर्मचारियों के वारिसों को अब तक मॉयल में अनुकंपा के आधार पर नौकरी नहीं मिली है. इससे उनके परिजनों पर भुखमरी की नौबत आ पड़ी है. 

    कर्मचारियों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा बुरा असर

    क्षेत्र की चिखला एवं डोंगरी बु. मॉयल में कार्य करने से अनेक कर्मियों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ा है. इस कारण उन्हें मेडिकल अनफिट घोषित कर सेवा पूर्ण होने के पूर्व ही काम पर से बंद किया जाता है. तब उनके परिजनों में से किसी एक व्यक्ति को अनुकम्पा तत्व पर नौकरी पर लिया जाना चाहिए. इस बारे में संबंधितों द्वारा बार-बार अनुरोध करने पर भी उनके बच्चों को अनुकंपा के आधार पर काम पर नहीं रखा गया है. मॉयल में काम करने वाले अनफिट मजदूर एवं कर्मचारियों के बच्चों को अनुकंपा के आधार पर नौकरी दिलवाकर उन्हें न्याय दिलाने में सहयोग करें.

    इसके अलावा मॉयल के माध्यम से प्रत्येक 10 वर्ष बाद अग्रिमेंट किया जाता है. लेकिन अब तक वर्ष 2017 में किए गए समझौते की राशि मॉयल में काम करने वाले श्रमिक एवं कर्मचारियों को नहीं मिलने से मजदूर एवं कर्मचारी वर्ग आर्थिक रूप से परेशान हैं. उनकी मेहनत का लाभ उन्हें दिलवाने की मांग की गईं है. 

    इस अवसर पर पूर्व विधायक राजेन्द्र जैन, विधायक राजू कारेमोरे, जिलाध्यक्ष नाना पंचबुद्धे, पूर्व सांसद मधुकर कुकडे, धनंजय दलाल, विट्ठल काहलकर, धनेंद्र तुरकर, इस्राईल शेख, नीतू मडावी, किशोर हुमने, दर्शन वाधवानी, सुरेश गोखले, बालू मोरे, शरद खोब्रागडे सहीत परिवार के सदस्य एवं अन्य उपस्थित थे.