VACCINATION
प्रतीकात्मक तस्वीर

    •  राज्य सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए चलाया जाएगा अभियान

    भंडारा. कोरोना पर टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है. 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, हालांकि गर्भवती व गंभीर रूप से बीमार लोग व बच्चों के लिए टीकाकरण अभी तक नहीं हुआ है. मगर राज्य सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए अब जिले में गर्भवती माताओं के लिए यह कोविड टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा. भंडारा जिला स्वास्थ्य प्रशासन ने गर्भवती महिलाओं से बिना किसी डर के टीकाकरण कराने का आह्वान किया है. जल्द ही टीकाकरण अभियान शुरू किया जाएगा.

    कर्मचारियों को प्रशिक्षण 

    भंडारा जिले में 21 जून से पुन: टीकाकरण अभियान चलाया गया. इसके तहत अब तक 4 लाख से ज्यादा नागरिकों का टीकाकरण किया जा चुका है, हालांकि गर्भवती महिलाएं इससे वंचित रहीं. गर्भवती महिलाओं को टीका लगाया जाना चाहिए या नहीं, यह निर्धारित करने के लिए विभिन्न जांच शुरू की गईं. अब यह टीका गर्भवती महिलाओं के लिए लगाया जाएगा.

    स्वास्थ्य प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि जल्द ही भंडारा जिला अस्पताल, साकोली व तुमसर उप जिला अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं के लिए टीकाकरण अभियान शुरू किया जाएगा. 

    उल्लेखनीय है कि जिन 3 केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं के लिए टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है. इसके लिए वहां के कर्मचारियों को भी प्रशिक्षित किया जाएगा. 

    टीकाकरण दोनों के लिए फायदेमंद

    जिला अस्पताल साकोली व तुमसर उप जिला अस्पताल में गर्भवती महिला टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा. इससे पहले गर्भवती महिलाओं का समुपदेशन किया जाएगा. गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण करने वाला स्वास्थ्य कार्यकर्ता सबसे पहले गर्भवती महिलाओं का समुपदेशन करेगा. कोविड-19 गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है.

    उच्च रक्तचाप, 35 वर्ष से अधिक उम्र की आयु जैसी चिकित्सीय स्थितियों वाली गर्भवती महिलाओं में कोविड 19 रोग विकसित होने का खतरा अधिक होता है और संक्रमण के समय से पहले प्रसव, जन्म के समय कम वजन आदि हो सकता है. गर्भावस्था के दौरान टीकाकरण से शिशु में संक्रमण का खतरा नहीं बढ़ता है. अधिकांश गर्भवती महिलाओं में लक्षण नहीं दिखते हैं.

    बिना डरे वैक्सीन लें: डा. माथुरकर 

    जिला टीकाकरण अधिकारी डा. माधुरी माथुरकर ने कहा कि गर्भवती महिलाओं को बिना डरे टीकाकरण करना चाहिए. गर्भवती महिलाओं को घबराने की कोई जरूरत नहीं है. गर्भवती महिला व उसके बच्चे के लिए टीकाकरण फायदेमंद होता है. बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए वैक्सीन ही एकमात्र दवा है.