Gharkul

  • वंचित बहुजन आघाडी ने दिया सौंपा विधानसभा अध्यक्ष को ज्ञापन

भंडारा. यशवंत राव चव्हाण मुक्त वसाहत योजना के लिए अनेक भूली- भटकी, विमुक्त समाज के लिए आवेदन प्रस्तुत किए गए. आवेदन करने के बाद बहुत समय बीत जाने के बाद भी उस पर ध्यान दिए जाने से लोग इस योजना का लाभ लेने से वंचित रह गए हैं.

वंचित बहुजन आघाडी, एकलव्य सेना के प्रतिनिधिनमंडल ने विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले को ज्ञापन सौंपा. ज्ञापन सौंपने वालों ने चेतावनी दी है कि अगर शीघ्र इस मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया गय तो तीव्र आंदोलन  छेड़ा जाएगा.

देश की आजादी के 73 वर्ष बाद भी भूले-भटके समाज से जुड़े लोगों के पास खुद का घर नहीं है. यह समाज वर्षों से भटकता ही रहा है. इस समाज के लोगों को घर मिले इसके लिए सरकार की ओर से यह योजना बनायी गई है. यह योजना जिला समाज कल्याण सहायक भंडारा की ओर से संचालित की जा रही है.

जिला परिषद के अंतर्गत सभी पंचायत समिति के खंड विकास अधिकारी को कार्यवाही के लिए निर्देश दिए गए हैं. भंडारा जिले से 15 हजार आवेदन भरे गए थे, लेकिन अभी तक एक भी आवेदन पर विचार नहीं हुआ है. शासनादेश काफी पुराना होने के बाद भी अभी तक इस योजना के लाभार्थियों को घर नहीं मिले हैं.

यह योजना सिर्फ कागज पर ही सीमित होकर रह गई है. इस योजना के लाभार्थियों को घर न मिलने के वजह से यह चर्चा होने लगी है कि सरकार ने भटके समाज को को सिर्फ भटकाने का काम ही किया है. विधानसभा अध्यक्ष को ज्ञापन सौंपते समय सुरेश खंगार, दिगंबर रामटेके, सोमद्र शहारे, संजीव भुरे, दीपक मारबते, राजकुमार मोहनकर आदि उपस्थित थे.