ढोल बजाकर सरकार को दी चेतावनी

  • सारथी को दिया उसी तरह महाज्योति को भी दी निधि देने की मांग

भंडारा (का). ओबीसी, भटक्या, विमुक्त समाज ने अपनी विभिन्न मागों के तहत अपने राज्यव्यापी आंदोलन के अंतर्गत जिलाधिकारी, तहसील कार्यालय के सामने ढोल बजाओ आंदोलन महाज्योति बचाओ कृति समिति की ओर से किया गया. राज्य के 1.30 करोड़ जनसंख्या वाले भटक्या विमुक्त समाज पर निरंतर अन्याय हो रहा है.

भटक्या विमुक्त प्रवर्ग की समस्याओं का तत्काल समाधान करने के लिए महाज्योति में गैर सरकारी सदस्य पद पर भटक्या विमुक्त समाज को प्रतिनिधित्व दिया जाए, राज्य सरकार की ओर से सारथी तथा मराठी समाज से जुड़ी संस्थाओं को जिस तरह 1210 करोड़ रूपए दिए गए, उसी तर्ज पर महाज्योति के लिए 2500 करोड़ रूपए की निधि दी जाए, भटके, विमुक्त, बार बेलुतेदार, ओबीसी समाज के सर्वागीण विकास के लिए, शिक्षा शुल्क छात्रवृत्ति योजना के लिए 1200 करोड़ रूपए, छात्रवृत्ति निर्वाह भत्ते के लिए 160 करोड़ रूपए तुरंत देने आदि मांगे पूरी करने संबंधी ज्ञापन सौंपा गया. इसके अलावा कई अन्य मांगों की ओर भी इस दौरान ध्यान आकृष्ट कराया गया.

निवासी जिलाधिकारी को दिए गए इस ज्ञापन को देते समय महाज्योति बचाओ कृति समिति के नीतेश जीवन पुरी, सुरेश खंगार, रवींद्र बमनोटे, उत्तम माने, तिलक हलमारे, माधवराव मानकर, लोकेस नगरे, जर्नादन खेड़कर, अमित वैध, दीपक मारबते, संजय भुरे, विनोद गिरी, पद्मगीर बोदले, विनोद किंदरले, प्रवीण पुरी, दिनेश राठौड़, सुमित देशमुख, राहुल दामोदर, तुषार देशमुख, उज्ज्वल पुरी, दिगंबर रामटेके आदि उपस्थित थे.