manganese Water, tumsar

तुमसर. तहसील के गोबरवाही में प्रादेशिक नल योजना के माध्यम से नाकाडोंगरी क्षेत्र के ग्रामीणों को मैगनीज युक्त पानी की आपूर्ति किए जाने से स्वास्थ्य को खतरा निर्माण हो गया है.

इस संदर्भ में नाकाडोंगरी के उप सरपंच गोल्डी घडले ने बताया कि बावनथड़ी नदी में निर्माण की गई पानी के टंकी के पास मॉयल द्वारा रेत का उत्खनन करने के लिए मैगनीज का रॉ मटेरियल बिछाकर रास्ता तैयार किया गया है. यह मैगनीज युक्त पानी टंकी में भरने के बाद  नल योजना के माध्यम से परिसर के 6 गांवों के  2000 से अधिक नल कनेक्शन धारकों को पानी की आपूर्ति की जाती है. इसमें नाकाडोंगरी के 500, राजापुर में 300, सुंदरटोला में 100, चिखला में 300 एवं सीतासावंगी में 500 नल धारक हैं.  इस मैगनीज युक्त पानी को पीने से ग्रामीण को पथरी, टाइफाइड एवं अन्य बीमारियों से ग्रसित होना पड़ रहा है. 

मेंटनेंस में परेशानी

बताया जाता है कि जिप को संबंधित नल धारकों से प्रतिवर्ष लगभग 26 लाख रुपए की आय होती है. जिप के अधिकारियों द्वारा इस योजना के माध्यम से मिलने वाला पैसा योजना पर खर्च नहीं करते हुए अन्य कार्यो पर खर्च किया जाता है. इससे निधि के अभाव में मेंटनेंस के कार्य में परेशानी होती है. जिससे ग्रामीणों को कभी कभार 8-10 दिनों तक नल के माध्यम से पानी प्राप्त नहीं होता है. घड़ले ने इस पर उपाय योजना करने की मांग की है.