strike

भंडारा (का). महाराष्ट्र राज्य महाविद्यालय तथा विद्यापीठ सेवक कृति समिति के संयुक्त सहयोग से अपनी विभिन्न प्रलंबित मांगों के लिए निजी महाविद्यालयीन कर्मचारियों ने कामबंद आंदोलन किया. महाराष्ट्र राज्य महाविद्यालय तथा विद्यापीठ सेवा कृति समिति के संयुक्त रूप में ज्ञापन में कहा गया है सरकार की ओर इस मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

महाविद्यालय के कर्मचारियों को विभिन्न कर्मचारियों की विभिन्न मागों के लिए कई बार राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार, मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री को कई बार ज्ञापन देने के बाद भी कर्मचारियों की मांग की ओर ध्यान नहीं गया. 24 सिंतबर महाविद्यालयीन कर्मचारियों को कृषि विश्वविद्यालय के कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सिपारिशें लागू करने, सेवा के अंतर्गत आश्वासित की गई प्रगति योजना को पुर्नजिवित करने के साथ-साथ विभिन्न प्रलंबित मांगों को पूरा करने के लिए कामबंद आंदोलन शुरु किया है.

सरकार की ओर से कर्मचारियों की मांग को स्वीकार न किए जाने के कारण अपना कामबंद आंदोलन शुरु कर दिया है. जिलाधिकारी को ज्ञापन देते समय संगठन के अध्यक्ष महेश कुथे, सचिव चंद्रशेखर शहारे, उपाध्यक्ष यशपाल कन्हाड़े, सिद्धार्थ श्रृंगारपवार के साथ-साथ भंडारा जिला कार्यकारिणी के सदस्य तथा पदाधिकारी उपस्थित थे.