election-commission

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के लिए केंद्रीय चुनाव आयोग ने बुधवार को नए दिशा-निर्देश जारी कर दिया है. कोरोना संकट (Corona Virus) देखते हुए आयोग ने स्टार प्रचारकों की संख्या पर नकेल लगा दी है. जारी किए नए निर्देशों के अनुसार महामारी के दौरान मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय/राज्य राजनीतिक दलों के लिए अधिकतम 30 स्टार प्रचारक बना पाएंगी, वहीं गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत राजनीतिक दल 15 स्टार प्रचारक बना पाएंगी.

सभी मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को लिखे पत्र में चुनाव आयोग ने कहा है कि चुनाव के संबंधित चरण की अधिसूचना जारी होने के 10 दिन के भीतर पार्टियां अपने स्टार प्रचारकों की सूची सौंप सकती हैं। पहले उन्हें सात दिन का समय मिलता था।

भारत में आठ मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय दल हैं… भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और एनपीपी। आयोग ने कहा कि बिहार दौरे पर उसे स्टार प्रचारकों के कारण बड़ी संख्या में लोगों के एकत्र होने की संभावनाओं के बारे में बताया गया। एक अक्टूबर को हुए संवाददाता सम्मेलन में ऐसी यात्राओं, विशेष रूप से हेलीकॉप्टर के उतरने के दौरान वहां बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति से स्वास्थ्य के खतरे पर स्पष्टीकरण मांगा गया था।

पत्र में कहा गया है, ‘‘आयोग ने बुधवार को मुद्दे पर फिर से चर्चा की। सभी तथ्यों और महामारी के कारण उत्पन्न परिस्थितियों और राजनीतिक दलों द्वारा प्रचार करने की जरुरतों के संतुलन को ध्यान में रखते हुए, आयोग ने स्टार प्रचारकों के लिए नियमों की समीक्षा का फैसला लिया।” बिहार में 28 अक्टूबर, तीन और सात नवंबर को तीन चरणों में मतदान होना है। राज्य में विभिन्न रिक्त सीटों पर तीन और सात नवंबर को उपचुनाव होने हैं।