‘विश्व बांस दिवस’ का महत्व और उससे जुड़ा व्यापार

विश्व बांस दिवस आज यानि 18 सितंबर को मनाया जाता है। यह दिन बांस के बारे में अधिक जागरूकता बढ़ाने और उसके उत्पादों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। बांस को “बुद्धिमानों की लकड़ी” और हरे सोने के रूप में जाना जाता है। यह सबसे तेज़ी से बढ़ने वाले पेड़ों में से एक है। यह संरचनात्मक रूप से बेहद ही मज़बूत और टिकाऊ होते हैं। वहीं तीन से पांच साल तक परिपक्व होते हैं। कलाकृतियों में भी इसका उपयोग किया जाता है। 

विश्व बांस दिवस का इतिहास-
विश्व बांस दिवस आधिकारिक तौर पर 18 सितंबर को बैंकाक में आयोजित 8 वीं विश्व बांस कांग्रेस में स्थापित किया गया था और थाई रॉयल वन विभाग द्वारा घोषित किया गया था। बांस के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और रोजमर्रा के उत्पादों में इसके उपयोग को बढ़ावा देने के लिए दुनिया भर के लोग और व्यवसाय इस दिन को मानते हैं। प्रत्येक वर्ष इस दिन, इसके उत्सव में बांस रोपण समारोह, 5K दौड़, विभिन्न प्रतियोगिता और दुनिया भर के अन्य प्रकार के उत्सव शामिल होते हैं।

भारत में कौन से राज्य में इसकी खेती ज़्यादा होती है ?

असम भारत में बांस की अधिकतम मात्रा का उत्पादन करता है, क्योंकि इसके अधिकांश वन विभिन्न प्रजातियों के बांस के रोपण के साथ धड़कते हैं। भारत के उत्तर पूर्वी क्षेत्र में इसकी किटी में बाँस के संसाधनों की अच्छी मात्रा है। यह सबसे तेजी से बढ़ने वाला संयंत्र निकट भविष्य में लकड़ी को स्थानापन्न करने की क्षमता रखता है। चीन के बाद दुनिया में बांस संसाधनों के उत्पादन में भारत दूसरे स्थान पर है। वहीं पूर्वोत्तर में भारत का 60 प्रतिशत बांस आरक्षित है।

‘आत्मनिर्भर भारत’ में बांस का योगदान-

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा“बाँस किसानों, हस्तशिल्प से जुड़े कलाकारों और अन्य सुविधाओं के लिए राष्ट्रीय बाँस मिशन के तहत करोड़ों रुपये का निवेश किया जा रहा है। इससे पूर्वोत्तर के युवाओं, यहां के स्टार्टअप्स को फायदा होगा।  
  • बांस पर आधारित करीब 25,000 उद्योग 2 करोड़ लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान कर रहे हैं। जबकि 20 लाख लोग बांस पर आधारित दस्तकारी में लगे हैं।
  • बांस के पेड़ के आकर्षक आकार और मजबूती के कारण निर्माण और ढांचे बनाने वाली सामग्री के रूप में इसके उपयोग की व्यापक सम्भावनाएं हैं। 
  • बांस की दस्तकारी और बांस पर आधारित संसाधनों का उपयोग करने वालों में लुगदी और कागज उद्योग अग्रणी हैं। 
  • देश के विभिन्न क्षेत्रों में बांस की खपत से संकेत मिलता है कि 24 प्रतिशत बांस का उपयोग ढांचा खड़ा करने वाली सामग्री के रूप में होता है। 
  • 20 प्रतिशत का उपयोग लुगदी और कागज उद्योग में, 19 प्रतिशत हस्तशिल्प बनाने में और 15 प्रतिशत अन्य विविध रूपों में इस्तेमाल किया जाता है।  

बांस से क्या-क्या बनता है-

  • बांस से घर का निर्माण किया जाता है। यह लोगों के छत बनाने के काम आते हैं।

  • इससे आप बोतलें बनाएं जाते हैं। साथ ही यह कंस्ट्रक्शन के काम भी आ रहा है।

  • बांस से घर के लिए फर्नीचर बना सकते हैं।

  • इससे हैंडीक्रॉफ्ट और ज्वैलरी भी बनाई जाती है।

  • बांबू से अब साइकिलों का भी निर्माण किया जा रहा है।