आज मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस, जानें इसका महत्त्व

पूरे विश्व में आज यानि 15 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International Democracy Day) मनाया जाता है। लोकतंत्र का मतलब है जनता की मर्जी से जनता के लिए चुनी गई सरकार। मतलब यहां न कोई राजा है और न ही कोई तानाशाह, यहां सरकार जनता चुनती है।इस आयोजन का मूल उद्देश्य इस बेहतरीन जीवन और सुशासन पद्धति को दुनिया में अंतिम छोर तक स्थापित करना है। पूरे विश्व का प्रसिद्ध देश अमेरिका में अध्यक्ष प्रणाली वाला लोकतंत्र है, जहां जनता एक इलेक्ट्रॉलर के ज़रिए राष्ट्रपति को चुनती है। हमारे भारत का लोकतंत्र दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, यहां एक साथ 60 करोड़ वोटर अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल कर सरकार चुनते हैं।

इतिहास-
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने साल 2007 में 15 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस घोषित किया था। संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि लोकतांत्रिक समाजों में इंसानों के अधिकारों और कानून के शासन की हमेशा रक्षा की जाती है। पहली बार अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस साल 2008 में मनाया गया। 15 सितंबर 2008 को लोकतंत्र के पहले अंतर्राष्ट्रीय दिवस को चिह्नित करने के लिए, IPU (इंटर-पार्लियामेंट्री यूनियन) जिनेवा में संसद के सदन में एक विशेष आयोजन किया गया था। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य पूरे विश्व में लोकतंत्र को बढ़ावा देना है।  

महत्त्व-
अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस का महत्व लोगों को लोकतंत्र में भाग लेने का अवसर प्रदान करना है। सरकार से लोगों के अधिकारों का सम्मान करने का आग्रह करना है। लोकतंत्र का सतत विकास महत्वपूर्ण है जो नागरिकों और सरकार द्वारा शांतिपूर्ण भविष्य के लिए किया जाना चाहिए।

इस दिन क्या होता है?
अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के दिन बहुत से लोग और संगठन लोकतंत्र के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। इस आयोजन में सम्मेलन, वाद-विवाद, चर्चाओं आदि जैसे कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में, अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस मनाने के लिए बड़े आयोजन किया जाता है।