पुरुषों के अधिकार और महत्व को समझाने का दिन

पुरुषों की अहमियत और उनके  महत्व को समझने के लिए आज यानी 19 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस (International Men’s Day) मनाया जाता है। यह दिन मुख्य रूप से पुरुषों को भेदभाव, शोषण, उत्पीड़न, हिंसा और असमानता से बचाने और उन्हें उनके अधिकार दिलाने के लिए मनाया जाता है। यह एक वार्षिक अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम है। इसकी शुरुआत 7 फरवरी 1992 को थॉमस ओस्टर द्वारा की गई थी। 

इतिहास

कई पुरुषों ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की तर्ज पर ही वर्ष 1923 में अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाए जाने की मांग की गई थी। इस मांग को लेकर पुरुषों आंदोलन भी किया था।उस दौरान पुरुषों ने 23 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने की मांग की थी। इसके बाद 1968 में अमेरिकन जर्नलिस्ट जॉन पी. हैरिस ने एक आर्टिकल लिखते हुए कहा था कि सोवियत प्रणाली में संतुलन की कमी है। 

उन्होंने लिखा था कि सोवियत प्रणाली महिलाओं के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाती है लेकिन पुरुषों के लिए वो किसी प्रकार का दिन नहीं मनाती। फिर 19 नवंबर 1999 में त्रिनिदाद और टोबैगो के लोगों द्वारा पहली बार अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया गया। डॉ. जीरोम तिलक सिंह ने जीवन में पुरुषों के योगदान को एक नाम देने का बीड़ा उठाया था। उनके पिता के बर्थडे के दिन विश्व पुरुष दिवस मनाया जाता है। 

वहीं भारत ने साल 2007 में पहली बार अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया। इसके बाद से ही भारत में हर साल 19 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।

महत्व

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस का बहुत अधिक महत्त्व है। यह दिन मुख्य रूप से पुरुष और लड़कों के स्वास्थ्य पर ध्यान देने, लिंग संबंधों में सुधार, लैंगिक समानता को बढ़ावा देने और पुरुष रोल मॉडल्स को उजागर किए जाने के लिए मनाया जाता है। InternationalMensDay की वेबसाइट के अनुसार, दुनिया में महिलाओं से 3 गुना से ज़्यादा पुरुष सुसाइड करते हैं। वहीं 3 में से एक पुरुष घरेलू हिंसा का शिकार है। महिलाओं से 4 से 5 साल पहले पुरुष की मौत होती है। महिलाओं से दोगुना पुरुष दिल की बीमारी के शिकार होते हैं। वहीं पुरुष दिवस पुरुषों की पहचान के सकारात्मक पहलुओं पर काम भी करता है।

थीम  

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस 2020 की थीम का विषय “Better Health for Men and Boys” रखा गया है। इसका उद्देश्य पुरुषों और लड़कों की सही को महत्व बताने और उन लोगों की मदद के लिए है। जो विश्व स्तर पर पुरुषों और लड़कों के स्वास्थ्य और कल्याण में व्यावहारिक सुधार करते हैं।