You can become a millionaire by farming, Yogesh Joshi is a witness

कई बार कुछ युवा ऐसा करने का सोचते है जिनका बाकियों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं होता। आज हम बात कर रहे हैं योगेश जोशी की। यहां एक तरफ बाकी युवा वर्ग शहरों में चकाचौंध ढूंढ रहा था वहीं योगेश के कुछ अपने ही प्लान्स थे। योगेश जोशी राजस्थान के जालेर के निवासी हैं। योगेश का परिवार चाहता था कि वह सरकारी नौकरी करें और सेटल हो जाए, लेकिन योगेश तो खेती करने के लिए तैयार थे।

योगेश ने बताया,

घर के लोग नहीं चाहते थे कि मैं खेती करूं। वे चाहते थे कि मैं सरकारी नौकरी के लिए पढ़ाई करूं। कृषि से स्नातक करने के बाद उन्होंने कहा कि मुझे इस क्षेत्र में सरकारी सेवा के लिए प्रयास करना चाहिए। उन्हें डर था, कि अगर खेती में कुछ नहीं मिला तो आगे मेरा क्या होगा, लेकिन मेरा इरादा खेती करने का था।

वह खेती करना और उसमें एक बड़ा नाम बनाना चाहते थे। और अपनी इच्छा के अनुसार, उन्होंने खेती की और समृद्ध लाभांश का आनंद ले रहे हैं। दस साल पहले, अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने जैविक खेती में डिप्लोमा किया। और फिर, पीछे मुड़कर नहीं देखा।

योगेश ने मसाले उगाना शुरू कर दिया। आज, सात साथी-किसानों के साथ, वह सैकड़ों एकड़ भूमि पर बढ़ता है और मुनाफे के रूप में करोड़ों कमाता है।  लेकिन शुरू में उन्हें कड़ा संघर्ष करना पड़ा। लेकिन उन्होंने दृढ़ता बनाए रखी और क्षेत्र के विशेषज्ञों की मदद मांगी।

वे कहते हैं, “पहली बार मैंने एक एकड़ ज़मीन पर जीरे की खेती की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली, नुकसान हुआ। इसके बाद भी मैंने हिम्मत नहीं हारी। शुरू में अनुभव और सलाह की कमी के कारण नुकसान में थे, इसलिए केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान (CAZRI) के एक कृषि वैज्ञानिक डॉ. अरुण के शर्मा की मदद ली। उन्होंने गाँव आने के बाद मेरे साथ कई और किसानों को प्रशिक्षित किया, जिसके बाद हमने फिर से जीरे की खेती की और लाभ कमाया। इसके बाद, हमने खेती का दायरा बढ़ाया। अन्य फसलों की खेती भी शुरू की। ”

उन्होंने कहा, “जैविक खेती को व्यवसाय बनाने के लिए, मैंने एक तेजी से जैविक कंपनी बनाई। जिसके माध्यम से मैं अधिक से अधिक किसानों को जोड़ने और उन्हें अच्छा मुनाफा देने की कोशिश करता हूं। शुरू में किसान हमसे जुड़ने के लिए अनिच्छुक थे, लेकिन अब वे स्वेच्छा से शामिल होने के लिए उत्सुक हैं। यह हमारी उपलब्धि है कि पिछले 5-7 वर्षों में हमारे समूह के 1000 किसान जैविक प्रमाणित हुए हैं। ”

योगेश की इस कामयाबी ये तो साफ़ पता चल रहा है की काम कोई भी हो पूरी इच्छा और संकल्प के साथ करना बहुत जरुरी हैं। और एक बार हम अपने पथ पर आगे बढ़ जाए तो पीछे मुड़ के नहीं देखना चाहिए। अगर हम अपने लक्ष्य पर डटे रहे तो सफलता निश्चित रूप से हासिल होनी ही हैं।