Bear died in a train collision

    बुलढाना. जलगांव जामोद तहसील के जंगल क्षेत्र में भालू मृतावस्था में पाया गया. इस क्षेत्र में जानवरों का निवास है. पिछले सप्ताह में 15 हिरनों की विष प्रयोगकर हत्या की जाने की घटना घटी थी. और अभी मादा भालू की  शिकार होने का संदेह जताया जा रहा है. भिंगारा-2 बीट में यह मामला सामने आया. भालू के नाखुन और दांत लापता है. वन विभाग ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

    वन विभाग के अधिकारी इस घटना को नैसर्गिक मृत्यु मान रहे है. वन विभाग के अधिकारियों ने 26 मई को इस विषय में जानकारी दी. जलगांव जामोद वन परिक्षेत्र के वनरक्षक ए.जी.भुईकर 24 मई को सतपुड़ा की भिंगारा-2 बीट में गश्त कर रहे थे. तब उन्हे कंपार्टमेंट नं. 631 के नाला खोरे में मादी भालू मृतावस्था में पाया गया.

    वनपरिक्षेत्र अधिकारी एस. कटारिया, वन कर्मचारी, मानद वन्यजीव रक्षक मंजितसिंग शीख, पशुधन विकास अधिकारी  डा. खराटे ने घटनास्थल की निगरानी की. वहां भालू मृत पाया गया. मादा भालू की 8, 10 दिन पहले ही मौत हो गई. उसकी उम्र 7 से 8 साल तथा संपूर्ण शरीर विद्रुप हो चुका है. नियमानुसार कार्रवाई कर भालू का शवविच्छेदन पूरा कर दफनविधि किया गया.

    भारतीय वन अधिनियम तथा भारतीय वन्यजीव संरक्षण की धारा द्वारा अज्ञात आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई. डीएफओ अक्षय गजभिये, एसीएफ रणजित गायकवाड के मार्गदर्शन में जलगांव जामोद आरएफओ एस. कटारिया शिनाख्त कर रहे है.