अंत्येष्टि का विरोध करने वालों पर होगी कार्रवाई, जिला दंडाधिकारी ने दिए आदेश

बुलढाना. कोविड संक्रमित मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार करते समय मोक्षधाम में स्थानीय नागरिक या समूह द्वारा विरोध किए जाने की शिकायतें मिल रही है. यदि विरोध होता है तो यह आपदा व्यवस्थापन में बाधा है, यह ग्राह्य मानकर उनके खिलाफ आपदा व्यवस्थापन अधिनियम 2005 की धारा 51 के तहत मामला दर्ज किया जा सकेगा और नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. किसी भी स्थिति में कोरोना संक्रमित मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार के लिए विरोध होने पर देरी न होने पाए, इस संदर्भ में सतर्क रहने के आदेश जिला दंडाधिकारी सुमन चंद्रा ने दिये हैं. 

आदेश में कहा गया है कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत होने पर लाश का सोडियम हायपोक्लोराइट द्रव से निर्जंतुकीकरण किया जाता है.  लाश को प्लास्टिक में या अस्पताल द्वारा दी गयी बैग में बंद कर बैग का बाह्य भाग 1 प्रश सोडियम हायपोक्लोराइट से निर्जंतुक किए जाने के बाद अंतिम संस्कार के लिए लाश दी जाती है. इसका विरोध करना उचित नहीं है.