Banned gutka being sold in the district, food and drug administration department ignored

बुलढाना. बुलढाना जिले में कोरोना का प्रसार रोकने के लिए लॉकडाउन लगा है. जिला व पुलिस प्रशासन द्वारा लॉकडाउन का पालन करने हेतु कड़ा बंदोबस्त व उपाययोजना की जा रही है. इन सबके बीच बुलढाना जिले में सभी ओर धडल्ले से प्रतिबंधित गुटका खरीदा व बेचा जा रहा है, इस ओर अन्न व औषधि प्रशासन विभाग की अनदेखी की जा रही है और नागरिकों द्वारा कई सवाल उपस्थित किए जा रहे हैं.

राज्य में महाविकास आघाड़ी की सरकार बनी और मंत्री मंडल में अन्न व औषधि प्रशासन मंत्री पद पर बुलढाना के डा.राजेंद्र शिंगणे को शामिल किया गया. मंत्री बनने के बाद उन्होंने जिले में कुछ समय तक प्रतिबंधित गुटका खरीदी व बिक्री करने वालों पर कार्रवाई की. अन्न व औषधि विभाग के दो अधिकारियों पर भी कार्रवाई की गई. कुछ समय बीतने के बाद अब धीरे-धीरे गुटका माफिया फिर सजग हो गए. -कंपनियों पर करें कार्रवाई

लॉकडाउन के बावजूद सभी ओर प्रतिबंधित गुटका खरीदा व बेचा जा रहा है. जिसके कारण अन्न व औषधि प्रशासन विभाग की कार्यपद्धति पर कई सवाल उठाए जा रहे हैं. सभी का ध्यान अन्न व औषधि प्रशासन मंत्री डा. राजेंद्र शिंगणे की ओर लगा हुआ है कि वह कौनसा कदम उठाते हैं. इस संदर्भ में स्थानीय निवासी चंद्रकांत बर्दे ने कहा कि सरकार को चाहिए कि वह गुटका बनाने वाली कंपनियों पर कार्रवाई करें. यदि सरकार यह कदम उठाती है तो गुटका बंदी अभियान चलाने की आवश्यकता नहीं रहेगी.